मुख्य मेनू खोलें

कल्वाकुंतला चंद्रशेखर राव (तेलुगु: కల్వకుంట్ల చంద్రశేఖర రావు) , संक्षेप में केसीआर, जन्म 17 फरवरी, 1954) तेलंगाना के वर्तमान मुख्यमंत्री, तेलंगाना राष्ट्र समिति के प्रमुख, तथा अलग तेलंगाना राष्ट्र आंदोलन के प्रमुख कार्यकर्ता हैं।[1] वे तेलंगाना के मेदक जिले के गजवेल विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। उन्होने ०२ जून २०१४ को तेलंगाना के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। वह 2018 में शुरुआती चुनाव के लिए गए,[2] जब उन्होंने अपनी अवधि पूरी होने से छह महीने पहले इस्तीफा दे दिया।[3]

केल्वाकुंतला चंद्रशेखर राव
K chandrashekar rao.jpg
के. चंद्रशेखर राव

पदस्थ
कार्यालय ग्रहण 
2 जून 2014
पूर्वा धिकारी पद सृजन

जन्म 17 फ़रवरी 1953 (1953-02-17) (आयु 66)
चिंतामदका, मेदक, तेलंगाना
जन्म का नाम कल्वाकुंतला चंद्रशेखर राव
राष्ट्रीयता भारत
जीवन संगी कल्वाकुंतला शोभा
बच्चे केटी राम राव (पुत्र) एवं कविता (पुत्री)
निवास हैदराबाद
धर्म हिंदू

इसके पूर्व वे सिद्धिपेट से विधायक तथा महबूबनगर और करीमनगर से सांसद रह चुके हैं। वे केंद्र में श्रम और नियोजन मंत्री रह चुके हैं।

तेलंगाना राष्ट्र समिति के गठन से पहले वे तेलुगु देशम पार्टी के सदस्य थे। उन्होंने अलग तेलंगाना राज्य के निर्माण की मांग करते हुए तेलगू देशम पार्टी छोड़ी। तेलंगाना राष्ट्र समिति 2004 कांग्रेस के साथ 2004 में लोकसभा चुनाव लड़ी थी और उसे पांच सीटें मिली। जून 2009 तक वे संप्रग सरकार में थे, लेकिन अलग तेलंगाना राष्ट्र पर संप्रग के नकारात्मक रवैये के कारण उन्हें संप्रग से बाहर आ गए।

शिक्षासंपादित करें

व्यक्तिगत जीवनसंपादित करें

के॰ चंद्रशेखर राव का विवाह शोभा से हुआ और उनके दो बच्चे हैं।[4] उनके बेटे, केटी राम राव, सरसिला राजन्ना जिला, (तेलंगाना के करीमनगर जिले) के एक विधायक हैं और आईटी, नगर प्रशासन और शहरी विकास विभागों के लिए कैबिनेट मंत्री हैं। उनकी बेटी, कलककुंटला कविता, निजामाबाद, तेलंगाना से एक एमपी है। उनके भतीजे, हरीश राव, सिद्धिपेट निर्वाचन क्षेत्र के विधायक हैं और अब तेलंगाना सरकार में सिंचाई, विधान मामलों और विपणन के लिए कैबिनेट मंत्री हैं। केसीआर में 9 बहनें और 1 बड़े भाई हैं। वह हैदराबाद शहर में आधिकारिक मुख्यमंत्री आवास, प्रगति भवन में अपने परिवार के साथ रहता है।

राजनीतिक जीवनसंपादित करें

 
2017 में हैदराबाद मेट्रो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ के॰ चंद्रशेखर राव

के चंद्रशेखर राव ने एक छात्र नेता के रूप में राजनीतिक जीवन शुरू किया।[5] इससे पहले वे एक रोजगार सलाहकार थे, जो कामगारों को खाड़ी देशों में भेजते थे। 1985 में वे तेलुगु देशम पार्टी में शामिल थे और विधायक चुने गए।[6] 1987-88 तक वे आंध्रप्रदेश में राज्यमंत्री रहे। 1992-93 तक वे लोक उपक्रम समिति के अध्यक्ष रहे। 1997-99 तक वे केंद्रीय मंत्री रहे। 1999 से 2001 तक वे आंध्रप्रदेश विधानसभा में उपाध्यक्ष रहे। इस पद से इस्तीफा देने के बाद तेलगू देशम से बाहर आ गए और एकसूत्रीय एजेंडा के तहत तेलंगाना राष्ट्र समिति की स्थापना की। 2004 में वे करीमनगर से लोकसभा सदस्य चुने गए।[7] 2004-06 तक उन्होंने केंद्रीय श्रम और नियोजन मंत्री के पद पर कार्य किया। 2006 में उन्होंने संसद की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया और फिर भारी बहुमत से सांसद चुने गए। 2008 में उन्होंने अपने तीन सांसदों और 16 विधायकों के साथ फिर इस्तीफा दिया और दूसरी बार सांसद चुने गए।

केसीआर का मुख्य उद्देश्य अलग तेलंगाना की स्थापना है। केसीआर के मुख्य सहयोगियों में उनके पुत्र तारक रामाराव (टीएसआर महासचिव) और भतीजा टी हरीश राव (विधायक) हैं। उनतीस नवंबर को उन्होंने अलग तेलंगाना के लिए अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर जाने की घोषणा की। उनकी इस घोषणा के बाद पुलिस ने उन्हें करीमनगर में गिरफ्तार कर लिया। उनके समर्थक विभिन्न जगहों पर प्रदर्शन कर रहे हैं। 2 जून 2014 को पहले तेलंगाना के मुख्यमंत्री बने।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "अलग तेलंगाना की अलख जगाने वाले राव की पूरी कहानी".
  2. "तेलंगाना असेंबली भंग करने के सियासी मायने क्या हैं".
  3. "KCR's early election gamble gives enough ammo to TRS".
  4. "Fifteenth Lok Sabha Members Bioprofile". Parliament of India. मूल से 31 March 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 7 January 2016.
  5. "तेलंगानाः कैसे अपराजेय हो गए केसीआर".
  6. "K Chandrasekhar Rao: An obscure Congress foot soldier who became mascot of Telangana pride".
  7. http://164.100.47.134/newls/Biography.aspx?mpsno=4083
पूर्वाधिकारी
पद सृजन
तेलंगाना के मुख्यमंत्री
2 जून 2014 – वर्तमान
उत्तराधिकारी
पदस्थ