क्षेत्रीकरण (zoning) किसी नगर को भिन्न प्रयोगों के लिए समर्पित क्षेत्रों में विभाजित करने की प्रक्रिया होती है। विश्व के बहुत से शहरों में आवासीय क्षेत्र, वाणिज्य क्षेत्र, औद्योगिक क्षेत्र, इत्यादि एक-दूसरे से पृथक रखे जाते हैं और एक प्रकार के प्रयोग को कानूनी रूप से केवल उसके लिए समर्पित क्षेत्र में ही होने की अनुमति होती है। सुरक्षा, स्वास्थ्य, आर्थिक दक्षता व अन्य कारणों से क्षेत्रीकरण करा जाता है, मसलन औद्योगिक क्षेत्रों में शोर, प्रदूषण और भारी मशीनों व वाहनों से चोट लगने का ख़तरा अधिक होता है इसलिए वहाँ पर आवास की अनुमति नहीं होती है, और इन्हीं कारणों से आवासीय क्षेत्रों में कारख़ाने लगाने की आज्ञा भी नहीं दी जाती।[1][2]

अमेरिकी शहर टैलाहैसी के केन्द्रीय भाग का क्षेत्रीकरण

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Urban Stormwater Management in the United States. National Academy of Sciences. 2009.
  2. Hodge, Gerald (2014). Planning Canadian Communities. Toronto: Thomson. पपृ॰ 388–390. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-17-650982-8.