यह वाकपति राज मुंज द्वारा लिखी गई एक कृति है जोकि प्राकृत भाषा में उपलब्ध है।