गणराज्यवाद या गणतंत्रवाद (गणतन्त्रवाद) या गणतांत्रिकवाद (गणतान्त्रिकवाद) एक विचारधारा है जो एक ऐसे राज्य में नागरिकता पर केंद्रित (केन्द्रित) है जो एक गणराज्य के रूप में आयोजित हैं और जिसके अंतर्गत (अन्तर्गत) लोगों के पास लोकप्रिय संप्रभुता (सम्प्रभुता) हैं। गणराज्यवाद, राजतंत्र (राजतन्त्र) और साम्राज्यवाद की विरोधी विचारधारा है, जो विरासत में मिली राजनैतिक शक्ति के विरुद्ध है।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें