भारतीय शास्त्रीय संगीत के सात स्वरों में से तीसरा स्वर। गांधार दो प्रकार के होते हैं। शुद्ध गांधार और कोमल गांधार