गाइगर-मूलर काउन्टर

गाइगर-मुलर काउंटर (Geiger–Müller counter) एक यंत्र है जो आयनकारी विकिरण की मात्रा को नापता है।

आधुनिक गाइगर गणित्र (काउन्टर)
गाइगर-मूलर काउण्टर का कार्य करने का सिद्धान्त

यह यंत्र शीशे की एक नली में बंद धातु के पतले सिलेंडर के ढंग का होता है। धातु की दीवार एक इलेक्ट्रोरॉड का काम करती है और सिलेंडर में लगा सीधा तार दूसरे इलेक्ट्रोरॉड का। इलेक्ट्रोरॉड में विद्युतशक्ति सिलेंडर के भीतर की वायु अथवा अन्य गैस की विघटन शक्ति से कुछ ही कम रहती है। सिलेंडर के भीतर आयोनाइजिक प्रभाव प्रेषित किया जाता है जिससे गैस आयोनाइज हो जाता है और एक हलकी तरंग उत्पन्न होती है। यह तरंग प्रकाश संकेतों या इयरफोन से सुनी जाने वाली ध्वनियों के द्वारा प्रकट होता है। इस उपकरण की सहायता से रेडियोधर्मिता मापी जाती है।

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें