यह गुरुद्वारा दिल्ली के चांदनी चौक के पास स्थित है। ऐसी मान्यता है कि जहां पर गुरु तेग बहादुर का शिश कटकर गिरा था वहाँ पर इस गुरुद्वारे की स्थापना की गई।