मुख्य मेनू खोलें

गोपीचंद नारंग

भारतीय सिद्धांतवादी, साहित्य आलोचक और विद्वान

गोपीचंद नारंग को भारत सरकार द्वारा सन २००४ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। इनके द्वारा रचित एक समालोचना साख्तियात पस–साख्तियात और मशरीक़ी शेरियात के लिये उन्हें सन् १९९५ में साहित्य अकादमी पुरस्कार (उर्दू) से सम्मानित किया गया।[1]

गोपीचंद नारंग

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "अकादमी पुरस्कार". साहित्य अकादमी. अभिगमन तिथि 11 सितंबर 2016.