पश्चिम बंगाल (भारत) का क्रांतिकारी जिसने कोलकाता के पुलिस आयुक्त चार्ल्स ऑगस्टस टेगार्ट की हत्या करने का प्रयास किया। 12 जनवरी, 1924 को किए गए इस प्रयास में उससे पुलिस आयुक्त को पहचानने में चूक हुई। फलतः एक अन्य अंग्रेज़ मारा गया। इसके बाद गोपीनाथ साहा को गिरफ्तार कर लिया गया और उन्हें फांसी दी गई।

जीवन परिचयसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें