गोलीय ज्यामिति

गोले की ज्यामिति

गोलीय ज्यामिति (Spherical geometry) किसी गोले के द्विबीमीय-तल का अध्ययन करती है। इसमें दो बिन्दुओं के बीच की न्यूनतम दूरी उन बिन्दुओं के बीच की सरलरेखीय दूरी के बजाय उन बिन्दुओं से जाने वाले वृहदवृत्त के चाँप की लम्बाई को लिया जाता है। यह अयूक्लिडीय-ज्यामिति (नॉन-यूक्लिडियन) का एक प्रकार है। नौकायन (नेविगेशन) तथा खगोलिकी (एस्ट्रोनॉमी) में इसका अनुप्रयोग होता है।

किसी गोले के तल पर स्थित त्रिभुज के तीनो अन्तःकोणों का योग ३६० डिग्री नहीं होता।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें