गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही ज़िला (Gaurella-Pendra-Marwahi district) भारत के छत्तीसगढ़ राज्य का एक ज़िला है। गौरेला इसका मुख्यालय है। इस ज़िले का गठन बिलासपुर ज़िले का विभाजन कर किया गया और इसका उदघाटन फरवरी २०२० में किया गया।[1][2]

गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही ज़िला
Gaurella-Pendra-Marwahi district
छतीसगढ़ का ज़िला
गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही ज़िला की छत्तीसगढ़ के मानचित्र पर अवस्थिति
गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही ज़िला
गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही ज़िला
छत्तीसगढ़ में स्थिति
निर्देशांक: 22°46′01″N 81°52′01″E / 22.767°N 81.867°E / 22.767; 81.867निर्देशांक: 22°46′01″N 81°52′01″E / 22.767°N 81.867°E / 22.767; 81.867
प्रान्तछत्तीसगढ़
देशFlag of India.svg भारत
स्थापना10 फरवरी 2020
मुख्यालयगौरेला
क्षेत्रफल[1]
 • कुल2307.39 किमी2 (890.89 वर्गमील)
जनसंख्या (2011)[1]
 • कुल3,36,420
भाषाएँ
 • प्रचलितहिन्दी, छत्तीसगढ़ी
समय मण्डलभारतीय मानक समय (यूटीसी+05:30)
वेबसाइटgaurela-pendra-marwahi.cg.gov.in

ज़िले का उदघाटनसंपादित करें

10 फरवरी 2020 को यह ज़िला अस्तित्व में आया। इसका औपचारिक ऐलान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने करा। घोषणा के साथ ही राज्य में 28 जिले हो गए। उदघाटन कार्यक्रम अस्थाई मुख्यालय ग्राम सेमरा के गुरूकुल में आयोजित था। 25 साल पुरानी मांग पर मुख्यमंत्री बघेल ने घोषणा की थी। गोंडवाना भवन में एसपी ऑफिस बनाया गया। कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष चरण दास महंत, कोरबा सांसद ज्योत्सना महंत, बिलासपुर सांसद अरुण साहू, मरवाही विधायक व पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, कोटा विधायक रेणु जोगी व अन्य नेता शामिल हुए।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें