ग्वालियर के तोमरों ने ग्वालियर तथा इसके निकटवर्ती क्षेत्रों पर १४वीं से १६वीं शताब्दी तक शासन किया। ग्वालियर में उन्होने बहुत से सांस्कृतिक कार्य किए।