घृतार्ची एक अप्सरा थी, जिसे द्रोणाचार्य की माता माना जाता है। द्रोण इनके भरद्वाज ऋषि से उत्पन्न हुए थे।

उर्वशी घर्ताची
हिंदू पौराणिक कथाओं के पात्र
नाम:उर्वशी घर्ताची
संदर्भ ग्रंथ:महाभारत
व्यवसाय:उर्वशी
संतान:द्रोण


कथासंपादित करें

एक बार भरद्वाज मुनि यज्ञ कर रहे थे। एक दिन वे गंगा नदी में स्नान कर रहे थे। वहाँ पर उन्होंने घृतार्ची नामक एक अप्सरा को गंगा स्नान कर निकलते हुये देख लिया। उस अप्सरा को देख कर उनके मन में काम वासना जागृत हुई और उनका वीर्य स्खलित हो गया जिसे उन्होंने एक यज्ञ पात्र में रख दिया। कालान्तर में उसी यज्ञ पात्र से द्रोण की उत्पत्ति हुई। द्रोण अपने पिता के आश्रम में ही रहते हुये चारों वेदों तथा अस्त्र-शस्त्रों के ज्ञान में पारंगत हो गये।