चक्रपाणि मिश्रा, महाराणा प्रताप के दरबारी पंडित थे। वह एक माथुर, ब्राह्मण थे और नासावारे चोब परिवार के थे | वे सिर्फ दरबारी पंडित ही नहीं थे, बल्कि महाराणा प्रताप के काफी अच्छे मित्र भी थे | उन्होंने महाराणा जी के साथ कई युद्ध लड़े, जिनमे से दिवेर-छापली का युद्ध, हल्दीघाटी का युद्ध प्रमुख है | उनकी पत्नी का नाम सौभाग्यवती था, उन्होंने महाराणा प्रताप के कहने पर कई किताबों का निर्माण भी किया, जिनमे से "मुहूर्तमाला", "व्यवहारदर्शा" और "राज्याभिषेक पद्धति" जैसे ग्रन्थ प्रसिद्ध हैं |[1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. महाराणा प्रताप का दरबारी पण्डित चक्रपाणि मिश्र और उसका साहित्य: विश्ववल्लभ, मुहूर्तमाला एवं राज्याभिषेक पद्धति का मूलपाठ, अनुवाद व समीक्षा चक्रपाणि मिश्र महाराणा प्रताप स्मारक समिति, 2004