चाँद रात हिन्दी-उर्दू और बंगाली शब्द है, जो भारत, बांग्लादेश और पाकिस्तान में उपयोग होता है। चाँद रात वह समय होता है, जब परिवार और मित्र बाहर खुले जगह पर नए चाँद को देखते हैं।[1]

चाँद रात का चाँद
भारत के शहर हैदराबाद में चाँद रात का जुलूस.

नया चाँद देखने की रात को "चाँद रात" कहते हैं। इस नए चाँद को देखने की रात के दुसरे दिन से इस्लामी कैलंडर के महीने की शुरूआत होती है। यानी चाँद रात उस महीने का आख़री दिन होता है, दुसरे दिन से अगले महीने की पहली तारीख शुरू होती है।

नामसंपादित करें

यह नाम संस्कृत के चंद्र (चाँद) [2] और रात्रि (रात) [3] शब्द से बना है। जिसे हिन्दी और उर्दू में चाँद और रात कहते हैं।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "City gears for Chand Raat". 5 दिसम्बर 2002. मूल से 2 दिसंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 जुलाई 2015.
  2. "चन्द्र, candra, moon". Spoken Sanskrit Dictionary. मूल से 4 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2009-08-01.
  3. "रात्रि, raatri, night". Spoken Sanskrit Dictionary. मूल से 3 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2009-08-01.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें