चुम्बकीय गोला

आवेशित कणों के प्रवाह के किसी ग्रह या उसी तरह के किसी पिंड की आतंरिक चुम्बकीय क्षेत्र से टकराने पर बनने वाला चुंबकीय गोला

चुम्बकीय गोला तब बनता है, जब आवेशित कणों का प्रवाह (जैसे की सौर वायु) किसी ग्रह या उसी तरह के किसी पिंड की आतंरिक चुम्बकीय क्षेत्र से टकराता है।

चुम्बकीय गोले का कलात्मक प्रतिपादन।