मुख्य मेनू खोलें

पंडित सार्वभौम भट्टाचार्य ने गौरांग की शत-श्लोकी स्तुति रची जिसे आज चैतन्य शतक नाम से जाना जाता है।[1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. डॉ॰अतुल टण्डन. "भगवन्नाम के अमर प्रचारक चैतन्य महाप्रभु" (एचटीएम). याहू जागरण.