मुख्य मेनू खोलें

विजयसिद्धि प्रथम के बाद उसके पुत्र जयसिंह द्वितीय ने ७०६ से ७१८ ई. तक राज्य किया। 'सर्वसिद्धि' उसका भी विरुद (उपाधि) था।