मुख्य मेनू खोलें

जया बच्चन

हिंदी फिल्म अभिनेत्री
(जया भादुड़ी से अनुप्रेषित)

जया बच्चन (विवाह पूर्व: जया भादुरी) हिन्दी फिल्मों की एक अभिनेत्री हैं। वह वर्तमान में 2004 से चार कार्यकालों से समाजवादी पार्टी से राज्यसभा में संसद सदस्य हैं। 1992 में, उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्म श्री से सम्मानित किया गया।

जया बच्चन
Jaya Bachchan48.jpg
जन्म जया भादुरी
9 अप्रैल 1948 (1948-04-09) (आयु 71)
जबलपुर, मध्य प्रदेश, भारत
व्यवसाय अभिनेत्री, राजनीतिज्ञ
जीवनसाथी अमिताभ बच्चन (1973–वर्तमान)
बच्चे अभिषेक बच्चन
श्वेता नंदा

व्यक्तिगत जीवनसंपादित करें

जया का जन्म 9 अप्रैल 1948 को जबलपुर, मध्य प्रदेश में हुआ था। जया जी की शादी अमिताभ बच्चन से 1973 मे हुई। इनके पुत्र अभिषेक बच्चन भी फिल्मों में अभिनेता हैं। पुत्री श्वेता बच्चन नंदा हैं। श्वेता की शादी दिल्ली में कपूर परिवार के उद्योगपति पोते निखिल नंदा से हुई है और उनके दो बच्चे, नव्या नवेली और अगस्त्य नंदा हैं। जबकि अभिषेक बच्चन की शादी अभिनेत्री ऐश्वर्या राय से हुई है और उनकी एक बेटी आराध्या बच्चन है।

फिल्मी सफरसंपादित करें

उन्हें अपने समय की हिन्दी सिनेमा की सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्रियों में से एक के रूप में पहचाना जाता है। अपने करियर के दौरान, उन्होंने नौ फिल्मफेयर पुरस्कार जीते: जिसमें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के लिए तीन और सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री के लिए तीन शामिल हैं, जिससे वह नूतन के साथ महिला अभिनय श्रेणियों में समग्र रूप से सर्वाधिक सम्मानित कलाकार हैं। 2007 में उन्हें फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया गया।

जया ने सत्यजीत रे की महानगर (1963) में किशोरी के रूप में अपनी फिल्म की शुरुआत की।[1] उनकी वयस्क के रूप में पहली फिल्म भूमिका गुड्डी (1971) में थी, जिसका निर्देशन ऋषिकेश मुखर्जी ने किया था। आगे जाकर इनके साथ वह कई फिल्मों में काम की। उन्हें उपहार (1971), कोशिश (1972) और कोरा कागज़ (1974) सहित अन्य फिल्मों में उनके अभिनय के लिए जाना गया। वह ज़ंजीर (1973), अभिमान (1973), चुपके चुपके (1975), मिली (1975) और शोले (1975) जैसी फिल्मों में अपने पति अमिताभ बच्चन के साथ दिखाई दीं।[2]

अभिनेता अमिताभ बच्चन से शादी और अपने बच्चों के जन्म के बाद, जया ने फिल्मों में अपने काम को सीमित कर दिया। सिलसिला (1981) में अपनी उपस्थिति के बाद, उन्होंने फिल्मों से अनिश्चितकालीन विश्राम लिया।[3] उन्होंने 1998 में गोविंद निहलानी की हज़ार चौरासी की माँ के साथ अभिनय में वापसी की। तब से, उन्होंने फिज़ा (2000), कभी खुशी कभी ग़म... (2001) और कल हो ना हो (2003) जैसी कई गंभीर और व्यावसायिक रूप से सफल फ़िल्मों में काम किया है। सभी से उनकी आलोचनात्मक प्रशंसा हुई, साथ ही साथ उन्होंने कई पुरस्कार और नामांकन प्राप्त किए।

प्रमुख फिल्मेंसंपादित करें

वर्ष फ़िल्म चरित्र टिप्पणी
2016 हेरा फेरी 3
2016 की और का 
2008 द्रोणा
2007 लागा चुनरी में दाग साबित्री
2003 कल हो ना हो
2002 देश सुप्रभा देवी
2002 कोई मेरे दिल से पूछे मानसी देवी
2001 कभी खुशी कभी ग़म नन्दिनी वाय रायचन्द
2001 डॉटर्स ऑफ दिस सेंचुरी अभागी अंग्रेजी फ़िल्म
2000 फ़िज़ा निशात बी
1998 हज़ार चौरासी की माँ सुजाता चटर्जी
1994 अक्का अतिथि भूमिका (गीत)
1981 सिलसिला शोभा मल्होत्रा
1979 नौकर गीता
1975 मिली मिली
1975 शोले राधा
1975 चुपके चुपके वसुधा कुमार
1974 नया दिन नई रात
1974 दूसरी सीता
1974 कोरा कागज़ अर्चना गुप्ता
1973 ज़ंजीर माला
1973 अनामिका
1973 अभिमान उमा कुमार
1973 फागुन
1972 अन्नदाता आरती
1972 परिचय रमा
1972 कोशिश आरती माथुर
1972 पिया का घर माल्ती शंकर
1972 एक नज़र शबनम
1972 बावर्ची
1972 बंसी बिरजू बंसी
1972 शोर
1972 समाधि
1971 गुड्डी
1971 उपहार
1963 महानगर बंगाली फ़िल्म

पुरस्कारसंपादित करें

फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कारसंपादित करें

अंतर्राष्ट्रीय भारतीय फ़िल्म अकादमी पुरस्कार (आई आई एफ ए)संपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "70 साल की हुईं जया बच्चन, बच्चों के साथ ऐसे मनाया जश्न, देखें Inside Photos". एनडीटीवी इंडिया. अभिगमन तिथि 25 मार्च 2019.
  2. "जया बच्चन के जन्मदिन पर सुनें उनके कुछ सुपरहिट गानें". नवोदय टाइम्स. 9 अप्रैल 2018. अभिगमन तिथि 25 मार्च 2019.
  3. "जन्मदिन पर विशेष : जया बच्चन ने अपनी सादगी और अभिनय से जीता लोगों का दिल, जानिए उनसे जुड़ी कुछ खास बातें". प्रभात खबर. अभिगमन तिथि 25 मार्च 2019.