जाने क्या बात हुई

जाने क्या बात हुई एक हिन्दी भाषा में बनी भारतीय धारावाहिक है। इसका प्रसारण कलर्स पर 1 दिसम्बर 2008 से 22 नवम्बर 2008 तक हुई। इसका निर्देशन मुकुल अबयंकर और निर्माण प्रेम कृशन ने किया है। इसकी लोकप्रियता घटने के कारण इसकी कहानी को समाप्त कर दिया गया।[1]

जाने क्या बात हुई
शैली नाटक
विकासकर्ता शरद राज
लेखक चारुदत्त आचार्य
निर्देशक मुकुल अबयंकर
सृजनात्मक निर्देशक अमिताभ रैना और सोनल सोनारिकर
सितारे नीचे देखें
निर्माण का देश भारत
मूल भाषा(एं) हिन्दी
सत्र संख्या 01
प्रकरणों की संख्या 120
निर्माण
कार्यकारी निर्माता सिद्धार्थ मल्होत्रा
निर्माता प्रेम कृशन और सुनील मेहता
संपादक रणधीर अफजल
छायांकन महेश गुप्ता
कैमरा सेटअप बहू-कैमरा
प्रसारण अवधि लगभग 24 मिनट
निर्माण कंपनी सिनेविस्टास
प्रसारण
मूल चैनल कलर्स
छवि प्रारूप 720i (SDTV)
मूल प्रसारण

1 दिसम्बर 2008 (2008-12-01) – 5 जून 2009 (2009-06-05)

3 सितम्बर 2013 (2013-09-03) – 15 फ़रवरी 2013 (2013-02-15)
स्तर समाप्त
बाह्य सूत्र
आधिकारिक जालस्थल

कहानीसंपादित करें

यह कहानी आराधना और शैलेंद्र की है। जिनकी शादी को 10 वर्ष हो चुके होते हैं। शैलेंद्र का उसके कार्यालय में ही काम करने वाली एक लड़की समीरा के साथ चक्कर चलते रहता है। उसके कार्यालय में ही उसकी पत्नी आराधना भी काम करती है। एक दिन वह शैलेंद्र को समीरा के साथ देख लेती है। उसके बाद शैलेंद्र, आराधना को विश्वास दिलाता है की वह अब कभी उसके विश्वास को नहीं तोड़ेगा और कभी किसी के साथ चक्कर नहीं चलाएगा।

कुछ दिनों के पश्चात् ही एक दुष्ट महिला रवीना, शैलेंद्र के पैसे और जायदाद को देख कर उसे जाल में फसाने के लिए आ जाती है। वह उसे बताती है की उसके पास पैसे की कमी है और उसके पास रहने के लिए घर भी नहीं है। शैलेंद्र उसके जाम में फँस जाता है और उसे रहने के लिए एक घर दिलाता है। उसके मित्र शांतनु और उसके बड़े भाई चंदर, दोनों ही उसे बाहर निकलवाने के लिए कोशिश करते हैं। लेकिन दोनों ही असफल हो जाते हैं। संजना और वृन्दा दोनों ही पैसों के कारण रवीना के साथ हो जाते हैं।

अंत में आराधना रवीना को शैलेंद्र के ज़िंदगी से निकाल देती है। शैलेंद्र अपने किए कार्य के लिए माफी मांगता है। लेकिन वह उसे माफ नहीं करती और कहती है की जिस तरह तुमने कार्य किया है अगर वह वैसा कुछ करती तो तुम्हें कैसा लगता। इसी के साथ एक पहेली के रूप में यह धारावाहिक समाप्त हो जाता है।

कलाकारसंपादित करें

  • श्वेता तिवारी - आराधना सरीन
  • संजीत बेदी - शैलेंद्र सरीन
  • शिशिर शर्मा - जवाहर सरीन
  • अभिनव कोहली - अक्षय सरीन
  • अमी त्रिवेदी - संजना सरीन
  • अभिनव शुक्ला - शांतनु अग्निहोत्री
  • तपेश्वरी शर्मा - सिमरन सरीन
  • अपर्णा कुमार - रवीना आनंद

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 12 दिसंबर 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 7 जुलाई 2015.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें