जाफ़र अली (मृत्यु १९७५ अप्रैल में हुई) एक प्रसिद्ध हस्तशिल्प-कलाकार और उद्यमी थे। उनका सम्बन्ध हसनाबाद, श्रीनगर, कश्मीर से था।

कैरियरसंपादित करें

जाफ़र अली ने कई पुरस्कार प्राप्त किये, जिनमें में से एक भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी दवारा कश्मीरी हस्तशिल्प को बढ़ावा देने में अनुकरणीय कार्य के लिए था। उनकी कला में कौशल जिसे उनहोंने अपने दादा से पाया था।

मृत्यु के समय जाफ़र अली के चार बेटे और दो बेटियां जीवित थे। अपने बेटों में से एक, सादिक अली, कश्मीर में एक राजनीतिज्ञ थे।[1][2]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Jaffer Ali". 1 जून 2012. नामालूम प्राचल |Website= की उपेक्षा की गयी (|website= सुझावित है) (मदद)
  2. "Kashmiri environmentalist Sadiq Ali passed away". 1 जून 2012. मूल से 27 अक्तूबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 मई 2012. नामालूम प्राचल |Website= की उपेक्षा की गयी (|website= सुझावित है) (मदद)