जेमीनेशन दांतों की वह आसामान्यता है जिसमे २ दांत १ ही रोगाणु कोशिका से बनते है जिसके कारण रोगी के दांतों की संख्या भी ज्यादा हो जाती है! यह असामान्यता किसी भी प्राथमिक दांतों में या फिर पक्के दांतों में भी देखी जा सकती है! इस असामान्यता में १ विकसित होने वाली बड से २ दंत बन जाते है जो की १ ही कोशिका से जुड़े होते है! जिसके कारण दोनों दांतों की कोशीकाए जुड़ जाती है और अगर कभी भी दोनों में से एक भी दांत रोगिक होता है तो उस समय एक दांत के बदले दोनों ही दांतों को निकलने से ही उसका इलाज हो सकता है! जुड़े हुए दांतों के २ रूट कैनाल होते है और २ ही पल्प चैम्बर होते है! जेमीनेशन और फ्यूजन दोनों ही देखने में एक सामान लगते है पर दोनों में यह अंतर होता है की जेमीनेशन में १ रोगाणु कोशिका होती है परन्तु उससे २ दांत बनते है! जबकि फ्यूजन में रोगाणु कोशीकाए २ होती है और उनसे जुडके १ दांत बनता है! दोनों स्थितियों में कृंतक दांत ही ज्यादा प्रभावित होते है!

जेमीनेशन

जेमीनेशन के कारण हुई असम्न्यताएसंपादित करें

  • अमीलोजेनेसिस इम्पेर्फेक्टा
  • हाइपरडॉनशिया
  • अनोडॉनशिया
  • डेनटिनोजेनेसिस इम्पेर्फेक्टा

[1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Peirera AJ, Fidel RA, Fidel SR. Maxillary Lateral Incisor with Two Root Canals: Fusion, Gemination or Dens invaginatus? Braz Dent J (2000) 11(2): 141-146