मुख्य मेनू खोलें

श्री ज्योतिन्द्र नाथ दीक्षित (१९३६-२००५), जिन्हें जे एन दीक्षित नाम से अधिक जाना जाता है, एक अनुभवी राजनयिक थे जो कि भारत के विदेश सचिव भी रहे। 1971 में बांग्लादेश बनने के बाद वे वहाँ भारत के पहले उच्चायुक्त थे। वे पाकिस्तान और श्रीलंका में भी भारत के उच्चायुक्त रहे। 1936 में मद्रास में जन्मे जेएन दीक्षित 1958 में भारतीय विदेश सेवा में आए और उन्होंने दुनिया के कई देशों में भारत की नुमाइंदगी की। 1994 में सेवानिवृत होने के बाद से वो लगातार देश-विदेश में पढ़ाने के अलावा अख़बारों में लिखते रहे।

ज्योतिन्द्र नाथ दीक्षित
चित्र:Jn-dixit.jpg

कार्यकाल
26 मई 2004 से 3 जनवरी 2005
पूर्वा धिकारी बृजेश मिश्रा
उत्तरा धिकारी एम के नारायणन



कार्यकाल
1971 से ____
पूर्वा धिकारी कोई नहीं


जन्म 1936
मृत्यु 3 जनवरी 2005
राष्ट्रीयता भारतीय

वे हल, मैंचेस्टर, ऑक्सफ़ोर्ड,मेलबर्न, लंदन सहित कई अन्य पश्चिमी विश्वविद्यालयों में भी अकसर लेक्चर देने जाया करते थे। दीक्षित काँग्रेस पार्टी में विदेश मामलों की इकाई के उपाध्यक्ष रहे। २००४ के आमचुनाव से पहले विदेश, सुरक्षा और रक्षा मामलों पर उन्होंने काँग्रेस का एजेंडा या घोषणा-पत्र तैयार करने में अहम भूमिका निभाई थी।

वे 26 मई 2004[1] से 3 जनवरी 2005 (निधन)[2] तक भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार भी रहे।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. PIB Release-1803 (English), Dated-26-May-2004
  2. PIB Release-6219 (English), Dated-3-Jan-2005