ज्या तरंग (sine wave या sinusoid) ऐसे तरंगरूप को कहते हैं जिसका आकार या ग्राफ ज्या वक्र जैसा हो या उससे कलान्तर लिए हुए हो। ज्या तरंग एक 'चिकना' आवर्ती तरंगरूप है। शुद्ध गणित, अनुप्रयुक्त गणित, भौतिकी, इंजीनियरी, संकेत प्रसंस्करण और अनेक अन्य क्षेत्रों में ज्या तरंग आती है।

ज्या फलन और कोज्या फलन के ग्राफ ; दोनों ही ज्यावक्रीय हैं किन्तु उनमें कलान्तर है।

ज्या तरंग को निम्नलिखित समय के फलन द्वारा निरूपित किया जा सकता है-

जहाँ:

  • A, आयाम (amplitude) है जो दर्शाता है कि यह फलन कितना अधिकतम मान ग्रहण कर सकता है।
  • f, आवृत्ति (frequency), प्रति सेकेण्ड कितनी बार फलन का मान अपना चिह्न बदलता है,
  • ω = 2πf, कोणीय आवृत्ति (angular frequency), इसका मात्रक रेडियन प्रति सेकेण्ड होता है।
  • , कला (phase)

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

  • तरंगरूप
  • फुर्ये श्रेणी
  • सकल सन्नादी विरूपण (THD) -- अन्य तरंगरूप ज्या-तरंग से कितने निकट हैं, यह दर्शाने के लिए THD का उपयोग किया जाता है। इसका मान शून्य के जितना ही निकट होगा, तरंगरूप उतना ही चिकना (तथा ज्या-तरंग के निकट) माना जाता है।