टांका एक पारम्परिक तकनीकी का थार रेगिस्तान (राजस्थान ) में प्रयोग किया जाने वाला पानी का एक बड़ा गढ्ढा है। इसमें पानी को इकट्ठा किया जाता है तथा बाल्टी की मदद से बाहर निकाल कर उपयोग में लिया जाता है। यह मुख्य रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में ही बनाए जाते हैं। टांका सामान्यतया: गोलाकार का ही होता है लेकिन वर्तमान में चोकोर टांके भी बनाए जाते हैं। जगसहायपुरा

राजस्थान में एक टांके का चित्र

इतिहाससंपादित करें

टांके मुख्यतः राजस्थान के ग्रामीण क्षेत्रों में ही बनाये गए हैं अर्थात् देखने को मिलते हैं। इसकी शुरुआत थार रेगिस्तान में ही हुई थी क्योंकि ग्रामीण क्षेत्रों में टांका ही एक ऐसा साधन है जिससे गर्मियों के दिनों में प्यास बुझ सके। राजस्थान के फलोदी ,बाड़मेर ,ठाडिया ,बालोतरा इत्यादि जगहों पर ६.१मीटर की गहराई लंबा तथा २.४४ मीटर चौड़ा होता है। इसमें लोग वर्षा का पानी भी इकट्ठा करते हैं तथा टेंकर का पानी भी डलवाते हैं तथा भीषण गर्मी में उपयोग में लिया जाता है।

आदतसंपादित करें

यहां राजस्थान में टांको का निर्माण के [1] बाद इस पर तिथि लिखना एक परम्परा सी बन गयी है। यहां लगभग हर टांके पर तिथि आसानी से मिल जाती है। .[2][3]

निर्माण प्रक्रियासंपादित करें

टांके का निर्माण करना खासा कठिन है इसको सर्वप्रथम फावड़ों की सहायता से खोदकर गढ्ढा करते हैं तथा चारों ओर पत्थर की दीवार बना देते हैं फिर सीमेंट को लेप देते हैं और सीमेंट को ७ से ८ दिनों तक अच्छी तरह से पकाते हैं। इस गढ्ढा रूपी टांके पर बड़ा लम्बा पत्थर जिसे राजस्थान की स्थानीय भाषा में (चीण) कहते हैं वो लगाते हैं।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Rainwater harvesting in rural India - taankas in the Thar Desert, by Megan Konar, Waterlines, Volume 25, Number 4, April 2007 , pp. 22-24(3). Publisher: Practical Action Publishing.
  2. Rainwater Harvesting Structures: 1: Taanka Indian Villages 2020 (in 2 Volumes)vision And Mission (vol. 1)strategies And Suggested Development Models (vol 2), Y.P. Singh (ed.). Concept Publishing Company, 2006. ISBN 818069321X. Page 421 .
  3. Community initiatives in capturing rain through terrain-specific technologies: examples from India Archived 2017-10-28 at the Wayback Machine IWA International Water Association website