ब्रिटेन का शासक।डंकन २ स्कोटलन्ड का महाराजा था।वह मलकोम ३ का पुत्र था।

जीवन वृत्तसंपादित करें

डंकन की माता की ओरक्नेयिंगा सगा थी -ऐसे माना जाता है जो मलकोम और इंगिभोर्ग की शादी को साबित करता है।डंकन २ को अपने दादा डंकन १ से मिला था।इंगिभोर्ग का उल्लेख किसी भी लेख में नहीं हुआ।शायद वह एक उपस्त्रि थी या उनकी शादी को चर्च की अनुमती नहीं मिली होगी।विल्लियम मलमेसबर्ग डंकन को अवैध कहता था।लेकिन ऐसे कोई स्रोत नहीं है जिसमें डंकन को शाही उत्तराधिकार से निकाल दे जाना का उल्लेख हो।१०७२ में डंकन को विल्लियम थ कोन्क्वरर का ज़ामीन बनाकर दिया गया था।मालकोम और विल्लियम के बीच कुछ संघर्ष तब चल रहा था। घसपैठ कर रहे नोर्मन्स से डरकर शाही परिवार का शेष सदस्य स्कोटलेन्ड केलिए पलायन किया।एडगर ने विल्लियम से संघर्ष के वक्त मालकोम की मदद माँगा।मालकोम और एडगर की बहन मारगरिट की शादी से यह संबंध और ढृढ हो गया।डंकन विल्लियम १ का एंग्लो इंडियन कोर्ट में अपने मेज़बान के सहन-रहन को समझकर बडा हुआ था।विल्लियम १ की मृत्यु के बाद रोबेर्ट करतोसे नोर्मान्डी का शासक बना।रोबेर्ट ने फ्लोरन्स ओफ वोरसेसटर के द्वारा डंकन को मुक्त कर दिया।लेकिन डंकन का पिता को तब तक दस बेटे हो चुके थे। मालकोम ३ डंकन को वापस लाने का कोई प्रयास नहीं कर रहा था।'बाटिल ओफ आल्नविक ' में मालकोम की मृत्यु हुई।

शादी

डंकन ने नोर्त्रुबिया की एतेलरडा से शादी किया।उनके एक ही पुत्र है जिसका नाम विल्लियम फिट्स डंकन है।

शासन और मृत्यु

डंकने ने अपनी सेना लेकर स्कोटलेंड पर आक्रमण किया।युद्ध जून पर आरंभ हुआ और डंकन की जीत हुई।