तक़दीर (अरबी एवं उर्दू और फ़ारसी : تقدیر) : यह शब्द अरबी है, इसका मूल शब्द "क़द्र" है, अर्थात "भाग्य"। इस्लाम के छ्ः विश्वास सूत्रों में से एक है "वल क़द्रि क़ैरिही", मतलब अल्लाह से प्रदान किये गये भाग्य पर भी विश्वास रखना। इसी को तक़दीर कहते हैं। स्थूल रूप से "अल्लाह से प्रसादित भाग्य पर विश्वास रखना" और उसका शुक्र बजा लाना। इसी सिलसिले को आगे बढाते हुवे यह भी कहा गया कि "मर कर उठने पर भी विश्वास करना"।