तत्त्ववैशारदी योग से सम्बन्धित एक संस्कृत ग्रन्थ है। यह वाचस्पतिमिश्र की कृति है जो व्यास भाष्य पर की टीका है। तत्त्ववैशारदी को सुस्पष्ट करने के लिये इस पर भी टीका मिलता है जिसका नाम पातंजलरहस्य है तथा इसके रचयिता राघवानन्द सरस्वती हैं।[1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "योगसूत्र के भाष्य ग्रन्थ तथा आचार्य - 2". मूल से 19 दिसंबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 दिसंबर 2012.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें