त्रिपटकों में तथागत शब्द का उपयोग गौतम बुद्ध ने स्वयं के लिये किया है। इस शब्द का अर्थ है- तथा+गत = 'वह जो (जैसा आया था), वैसा ही चला गया'। ततः+स+गत ज्यादा सही होगा। Tathagat bauddhik Unke shishyo ne une hi sarvparthm tathagat kaha tha (तथागत=तथ+आगत तथ का मतलब तथ्य,सच्चाई,सत्यता। आगत का मतलब आया हुआ।)