मुख्य मेनू खोलें

ऐतिहासिक नींवसंपादित करें

वाल्टर कैनन और हैंस सेल्ये ने तनाव के अध्ययन पर आरंभिक वैज्ञानिक आधार स्थापित करने के लिए जानवरों का अध्ययन किया। उन्होंने बाहरी दबाव में पशुओं की शारीरिक प्रतिक्रियाओं को मापा जैसे गर्मी और सर्दी में, लंबे समय तक संयम में और शल्यचिकित्सा की प्रक्रियाओं में और इन अध्ययनों से मानव प्राणी को वाग्विस्तार किया।[1][2]

मानव में तनाव के अनुवर्ती अध्ययन के बाद रिचर्ड रेह और दूसरों का मानना है कि तनाव के कारण अलग, जीवन में तनाव का परिमाण और आगे जीवन में तनाव के उत्पादन की औसत डिग्री द्वारा वर्गीकृत किया जा सकता है (प्रमुखत: होम्स और रेह तनाव स्केल से). इस प्रकार, अवधारणा थी कि तनाव परंपरागत रूप से बाहरी अपमान का परिणाम है जिनके लिए तनाव का अनुभव नियंत्रण के बाहर है। हाल ही में, जैसे भी हो, यह तर्क दिया गया कि बाह्य परिस्थितियों से किसी भी आंतरिक क्षमता में तनाव का उपज नहीं होता है, बल्कि प्रभावित व्यक्ति किस प्रकार अपने विचारों, क्षमताओं और समझ से इसकी मध्यस्थता करते हैं।

तनाव प्रबंधन के मॉडलसंपादित करें

संव्यवहारिक मॉडलसंपादित करें

1984 में रिचर्ड लैजेरस और सूजैन फोकमैन ने सुझाव दिया कि "तनाव मांग और संसाधनों के बीच असंतुलन के परिणामस्वरूप" भी होता है, अथवा "किसी के सहने की क्षमता से अधिक दबाव से भी हो सकता है।" तनाव प्रबंधन और विकास के विचार पर आधारित है कि तनाव एक तनावग्रस्त के लिए एक सीधी प्रतिक्रिया नहीं है बल्कि एक संसाधन है, जिसमें तनाव की प्रतिक्रिया में सहने की क्षमता, पक्ष को बदलने की क्षमता और मध्यस्थता की अनुमति से तनाव पर नियंत्रण पाया जा सकता है।[3]

नियमानुसार एक प्रभावी तनाव प्रबंधन कार्यक्रम को विकसित करने के लिये सबसे पहले यह आवश्यक है कि व्यक्ति के अन्दर केन्द्रित कारकों की पहचान जो तनाव पर प्रभावी ढंग से हस्तक्षेप करते हैं और उन पर नियंत्रण करते हो. लैजेरस और फोकमैन की व्याख्या के अनुसार तनाव लोग और उनके बाहरी वातावरण के बीच संव्यवहार पर केंद्रित है (जिसे संव्यवहारिक मॉडल के रूप में जाना जाता है). मॉडल तनाव की अवधारणा करता है कि कैसे एक व्यक्ति अपने तनाव की वजह का मूल्यांकन करता है और अपने संसाधनों के द्वारा तनाव पर काबू पाता है। मॉडल का प्रस्ताव है कि अगर तनाव कारक - तनाव लिंक टूटता है तो एक संभावित तनाव सकारात्मक या चुनौती देने के बजाय एक खतरे के रूप में माना जाता है और अगर तनावग्रसित को यह विश्वास है कि तनाव से सामना करने की रणनीतियों में कोई कमी नहीं है बल्कि पर्याप्त रूप से है, यह जरूरी नहीं है कि तनाव उपस्थित संभवनीय कारकों का अनुसरण करे. मॉडल का प्रस्ताव है कि तनाव को कम किया जा सकता है, तनावग्रसित लोगों की मदद उनकी तनाव पैदा करने वाले कारकों के प्रति अपनी धारणा बदलने और तनाव से निबटने के लिए, कौशल प्रदान करें जिससे उनके आत्मविश्वास में सुधार हो सके।

स्वास्थ्य प्राप्ति / स्वाभाविक स्वास्थ्य मॉडलसंपादित करें

स्वास्थ्य प्राप्ति /स्वाभाविक स्वास्थ्य मॉडल इस विचार पर भी आधारित है कि यह जरूरी नहीं है कि तनाव संभावित तनाव-कारक की उपस्थिति का पालन नहीं करता है। व्यक्ति के मूल्यांकन पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय उसकी तनाव कारकों से मुकाबला करने की कुशलता पर ध्यान देना चाहिए (जैसा कि व्यवहार मॉडल करता है), स्वास्थ्य प्रतीति मॉडल ने सोच की प्रकृति पर ध्यान केंद्रित करते हुए कहा कि अंततः यह एक व्यक्ति के सोच की प्रक्रिया है कि वह संभावित तनावपूर्ण बाह्य परिस्थितियों पर अपनी प्रतिक्रिया ब्यक्त करता है। इस मॉडल में, तनाव का कारण है ऐसे समय में अपने आप का मूल्यांकन करना जब असुरक्षा और नकारात्मकता की भावना की परिस्थिति हो, ऐसी अवस्था में अगर "शांत दिमाग", "आंतरिक ज्ञान और सामान्य बुद्धि, के दृष्टिकोण के साथ इस मॉडल में, तनाव अपने आप का मूल्यांकन करने से और किसी ऐसी परिस्थिति का सामना करने से जहां असुरक्षा और नकारात्मकता की भावना हो, ऐसी अवस्था में अच्छा महसूस तब किया जा सकता है जब दुनिया के समीप बिल्कुल "शांत दिमाग","आंतरिक ज्ञान" और "सामान्य बुद्धि" को कायम रखते हुए जायें .[4][5]

इस मॉडल का प्रस्ताव है कि तनावग्रस्त व्यक्तियों की मदद उनके सोच की प्रकृति को समझ कर करना चाहिये - विशेष रूप से उन्हें पहचान के लिए क्षमता प्रदान करने का जब वे असुरक्षित सोच की चपेट में हों, उन्हें इससे छुड़ाना है और उन्हें बल देना कि वे अपनी प्राकृतिक सकारात्मक भावनाओं का उपयोग करें - जिससे उनका तनाव कम हो जाएगा.

तनाव प्रबंधन की तकनीकसंपादित करें

यहां तनाव से मुकाबला करने के कई तरीके हैं। समय प्रबंधन की कुछ तकनीके किसी व्यक्ति के तनाव को नियंत्रित करने में मदद कर सकती हैं। आकृति में जब मांग उच्च हो तो प्रभावी तनाव प्रबंधन सीखने की सीमा तय करने के लिए दूसरों की कुछ मांगों को "ना" कर देना चाहिये. निम्नलिखित तकनीक को हाल ही में "डीस्ट्रैसेलाइज़र" कनाडा के मेडिकल एसोसिएशन के जर्नल द्वारा डब किया गया है। "डीस्ट्रैसेलाइज़र" एक प्रक्रिया है जिसके द्वारा एक व्यक्ति के तनाव को दूर किया जा सकता है। तनाव प्रबंधन की तकनीक सैद्धांतिक प्रतिमानके अनुसरण के अनुसार भिन्न हो जाएगी लेकिन उनमें निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं:[6]

तनाव मापनासंपादित करें

तनाव के स्तर को मापा जा सकता है। एक तरीका होम्स और रेह स्ट्रैस स्केल के प्रयोग के माध्यम से तनावपूर्ण जीवन की घटनाओं का मूल्य निरूपण किया जा सकता है। रक्तचाप और बिजली उत्पन्न करने वाली त्वचा की प्रतिक्रिया में परिवर्तन से भी तनाव परीक्षण मापा जा सकता है और तनाव के स्तर में बदलाव लाया जा सकता है। एक डिजिटल थर्मामीटर जिससे त्वचा के तापमान के बदलाव का मूल्यांकन किया जा सकता है, जो लड़ने या उड़ान की प्रतिक्रिया के क्रियान्वयन का संकेत कर रक्त को चरम सीमाओं तक पहुंचने से अलग रख सकते हैं।

तनाव प्रबंधन से शारीरिक और असंक्राम्य लाभ प्रभाव है।[9]

तनाव प्रबंधन की प्रभावशीलतासंपादित करें

गैर- दवा हस्तक्षेपों: के संयोजन का उपयोग कर सकारात्मक परिणाम परिलक्षित हैं।[10]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. कैनन, डब्ल्यू. (1939). द विजडम ऑफ़ द बॉडी, दूसरा संस्करण, NY: नोर्टन पब्स.
  2. Selye, H (1950). "Stress and the general adaptation syndrome". Br. Med. J. 4667: 1383–92. PMID 15426759.
  3. लैज़रस, आर.एस., & फोकमैन, एस. (1984). तनाव, मूल्यांकन और मुकाबला. न्यू यॉर्क: स्प्रिंगर.
  4. मिल्स, आर.सी. (1995). रियलाइज़िन्ग मेंटल हेल्थ: टुवार्ड ए न्यू साइकोलोजी ऑफ़ रेसिलिएंसी . सल्बर्गर & ग्राहम पब्लिशिंग, लिमिटेड ISBN 0-945819-78-1
  5. सेजमैन, जे.ए. (2005). स्वास्थ्य प्राप्ति / जन्मजात स्वास्थ्य: क्या तनाव राहत तकनीकों के बिना एक शांत दिमाग और एक सकारात्मक महसूस होने वाली दशा जीवन काल पर पहुंच सकता है? मेड. साइं. मॉनिटर 11(12)HY47-52. http://www.medscimonit.com/fulltxt.php?IDMAN=8224
  6. स्पेन्स, जे.डी., बार्नेट, पी.ए., लिन्डेन, डब्ल्यू., रैम्सडेन, वी., टाएंज़र, पी. (1999). उच्च रक्तचाप को रोकने व नियंत्रित करने के लिए जीवन शैली का संशोधन. 7. तनाव प्रबंधन पर सिफारिशें. निम्नलिखित तकनीक को हाल ही में डब किया गया है "डीस्ट्रैसेलाइज़र" कनाडा के मेडिकल एसोसिएशन के जर्नल द्वारा. एक "डीस्ट्रैसेलाइज़र" कोई भी प्रक्रिया है जिसके द्वारा एक व्यक्ति के तनाव को दूर किया जा सकता है। 160(Suppl 9):S46-50.12365525Ṇ http://www.cmaj.ca/cgi/content/abstract/160/9/s46
  7. www.naturalproductsassoc.org
  8. Lehrer, Paul M.; David H. (FRW) Barlow, Robert L. Woolfolk, Wesley E. Sime (2007). Principles and Practice of Stress Management, Third Edition. पपृ॰ 46–47. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 159385000X.
  9. Bower, J. E. & Segerstrom, S.C. (2004). "Stress management, finding benefit, and immune function: positive mechanisms for intervention effects on physiology". Journal of Psychosomatic Research. 56 (1): 9–11. डीओआइ:10.1016/S0022-3999(03)00120-X. नामालूम प्राचल |vol= की उपेक्षा की गयी (|volume= सुझावित है) (मदद)
  10. Wolfgang Linden; Joseph W. Lenz; Andrea H. Con (2001). "Individualized Stress Management for Primary Hypertension: A Randomized Trial". Arch Intern Med. 161: 1071–1080. PMID 11322841. डीओआइ:10.1001/archinte.161.8.1071.
  • ओग्डेन, जे. (2000). हेल्थ साइकोलोजी (3सरा संस्करण). ओपन यूनिवर्सिटी प्रेस: बकिंघम.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें