बैकयार्ड तरण ताल
नेवादा, लास वेगास, संयुक्त राज्य अमेरिका में छत के ऊपर बने एक तरण ताल का ऊपर से दृश्य

तरण ताल, या स्वीमिंग पूल, तैराकी या जल-आधारित मनोरंजन के इरादे से पानी से भरे एक स्थान को कहते हैं। इसके कई मानक आकार हैं; ओलंपिक-आकार का स्विमिंग पूल सबसे बड़ा और सबसे गहरा होता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] पूल को जमीन से ऊपर या जमीन पर धातु, प्लास्टिक, फाइबरग्लास या कंक्रीट जैसी सामग्रियों से बनाया जा सकता है।

जिस पूल को कई लोगों द्वारा या आम जनता के द्वारा उपयोग किया जा सकता है उसे पब्लिक पूल कहते हैं, जबकि विशेष रूप से कुछ लोगों द्वारा या किसी घर में इस्तेमाल किये जाने वाले पूल को प्राइवेट पूल कहा जाता है। कई हेल्थ क्लबों, स्वास्थ्य केन्द्रों और निजी क्लबों में सार्वजनिक पूल होते हैं जिन्हें ज्यादातर व्यायाम के लिए इस्तेमाल किया जाता है। कई होटलों और मसाज पार्लरों में तनाव से मुक्ति के लिए सार्वजनिक पूल मौजूद होते हैं। हॉट टब और स्पा ऐसे पूल होते हैं जिसमें गर्म पानी होता है जिसे तनाव मुक्ति या चिकित्सा के लिए इस्तेमाल किया जाता है और ये घरों, क्लबों एवं मसाज पार्लरों में आम तौर पर मौजूद होते हैं। स्विमिंग पूल (तरण ताल) का उपयोग ग़ोताख़ोरी (डाइविंग) और पानी के अन्य खेलों के साथ-साथ लाइफगार्ड्स और अंतरिक्ष यात्रियों के प्रशिक्षण में भी होता है।

स्विमिंग पूलों में बैक्टीरिया, वायरस, शैवाल और कीट लार्वा के विकास और प्रसार को रोकने के लिए अक्सर रासायनिक कीटाणुनाशकों जैसे कि क्लोरीन, ब्रोमिन या खनिज सैनिटाइजर्स और अतिरिक्त फिल्टरों का उपयोग किया जाता है। वैकल्पिक रूप से पूल कीटाणुनाशकों के बगैर अतिरिक्त कार्बन फिल्टरों और यूवी कीटाणुशोधन के साथ बायोफ़िल्टर का इस्तेमाल कर तैयार किये जा सकते हैं। दोनों ही मामलों में तालों (पूल) में एक उचित प्रवाह दर को बनाये रखना आवश्यकता होता है।[1]

इतिहाससंपादित करें

 
यूनाइटेड किंगडम, इंग्लैंड के बाथ-स्पा में स्नान करते प्राचीन रोमवासी

मोहनजोदड़ो के स्थल पर "ग्रेट-बाथ" का निर्माण संभवतः ईसा पूर्व तीसरी सहस्राब्दी में किया गया था। यह पूल 12 x 7 मीटर का है और ईंटों से निर्मित है जिसे टार-आधारित सीलेंट से ढंका गया था।[2]

प्राचीन यूनानी और रोमन लोगों ने पैलेस्ट्रास में एथलेटिक के प्रशिक्षण, समुद्री खेलों तथा सैन्य अभ्यास के लिए कृत्रिम पूलों का निर्माण किया था। रोमन सम्राटों के पास निजी तरण ताल होते थे जिनमें मछलियों को भी रखा जाता था, इसलिए पूल के लिए लैटिन शब्दों में से एक पिसिना भी है। पहला गर्म स्विमिंग पूल ईसा पूर्व पहली सदी में रोम के गयुस मीसेनस द्वारा बनाया गया था। गयुस मीसेनस एक अमीर रोमन लॉर्ड थे जिन्हें कला के प्रथम संरक्षकों में से एक माना जाता है।[3]

प्राचीन सिंहली लोगों ने ईसा पूर्व चौथी सदी में श्रीलंका के अनुराधापुर राज्य में "कुट्टम पोकुना" नामक पुलों के जोड़े का निर्माण किया था। इन्हें सीढ़ियों, बहुत सारे पुन्कालाज या पॉट्स तथा स्क्रौल डिजाइन से सजाया गया था।[4]

 
टेक्सास, अमेरिका के सबसे प्राचीन कंक्रीट स्विमिंग पूल डीप एडी पूल, का निर्माण 1915 में हुआ।

स्विमिंग पूल (तरण ताल) ब्रिटेन में 19वीं सदी के मध्य में लोकप्रिय हुए. 1837 तक इंग्लैंड के लंदन में डाइविंग बोर्डों के साथ छः इनडोर पूलों (तालों) का निर्माण किया गया था।[5] स्कॉटलैंड के ग्लासगो में स्थित अर्लिंगटन बाथ्स क्लब को दुनिया का ऐसा सबसे पुराना स्विमिंग क्लब माना जाता है जिसका अस्तित्व अभी भी बना हुआ है। अर्लिंगटन की स्थापना 1870 में की गयी थी और यह आज भी एक सक्रिय क्लब है और अपनी 21 मीटर पूल वाली मूल विक्टोरियन इमारत का मालिक भी है। 1896 में आधुनिक ओलिंपिक खेलों की शुरुआत और इसमें तैराकी को शामिल किये जाने के बाद से स्विमिंग पूलों की लोकप्रियता बढ़नी शुरू हो गयी थी। 1839 में ऑक्सफोर्ड के अपने पहले बड़े सार्वजनिक इनडोर पूल का निर्माण टेम्पल काउली में किया गया जिससे तैराकी का प्रचलन तेजी से बढ़ने लगा। एमेच्योर स्विमिंग एसोसिएशन की स्थापना 1869 में इंग्लैंड में की गयी थी,[6] और ऑक्सफोर्ड स्विमिंग क्लब को टेम्पल काउली पूल में इसके घर के साथ 1909 में बनाया गया था।[7] लंदन के मर्टन स्ट्रीट के कौबल्ड क्षेत्र में इनडोर स्नानागारों की मौजूदगी ने संभवतः जलीय ब्रिगेड के कम साहसी लोगों को इसमें शामिल होने के लिए राजी किया था। इसीलिये स्नान करने वाले (बाथर्स) धीरे-धीरे तैराक (स्विमर्स) बन गए और बाथिंग पूल स्विमिंग पूल बन गया।

संयुक्त राज्य अमेरिका में फिलाडेल्फिया क्लब हाउस के रैकेट क्लब (1907) के पास, दुनिया के प्रथम आधुनिक तथा जमीन के ऊपर बने स्विमिंग पूलों में से एक होने का गौरव हासिल है। व्हाइट स्टार लाइन के एड्रियाटिक पर 1907 में स्थापित स्विमिंग पूल, एक ओशन लाइनर पर समुद्र में जाने वाला प्रथम पूल था।[8]

प्रतिस्पर्धी तैराकी में दिलचस्पी प्रथम विश्व युद्घ के बाद बढ़ी. मानकों में सुधार हुआ और प्रशिक्षण अनिवार्य हो गया। घरेलू स्विमिंग पूल द्वितीय विश्व युद्ध के बाद संयुक्त राज्य अमेरिका में लोकप्रिय हुए और हॉलीवुड की फिल्मों जैसे कि एस्थर विलियम्स की मिलियन डॉलर मरमेड द्वारा तैराकी के खेलों को दिए गए प्रचार ने होम पूल को एक वांछनीय स्टेटस सिम्बल बना दिया। पचास से अधिक सालों के बाद घरेलू या आवासीय स्विमिंग पूल सर्वव्यापी हो गए हैं और यहाँ तक कि छोटे राष्ट्रों में भी एक संपन्न स्विमिंग पूल उद्योग फल-फूल रहा है (जैसे कि न्यूजीलैंड, आबादी 4,116,900 [स्रोत एनजेड जनगणना 7 मार्च 2006] - इसने 65,000 घरेलू स्विमिंग पूलों और 125,000 स्पा पूलों के साथ पर कैपिटा पूलों के मामले में एक रिकॉर्ड कायम रखा है। रॉयल रोड्स मिलिट्री कॉलेज में 1959 में निर्मित क्षैतिज घन आयतनों (क्यूबिक वॉल्यूम्स) से युक्त एक दो मंजिला, सफेद कंक्रीट की स्विमिंग पूल की इमारत कनाडा के रजिस्ट्री ऑफ हिस्टोरिक प्लेसेस में दर्ज है।[9]

स्विमिंग पूल के रिकॉर्डसंपादित करें

 
मोस्कवा पूल, जो एक समय में दुनिया का सबसे बड़ा स्विमिंग पूल था (1980)

गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के मुताबिक चिली के अल्गारोबो में स्थित सैन अलफोंसो डेल मार सीवाटर पूल दुनिया में सबसे बड़ा स्विमिंग पूल है। यह 1,013 मी॰ (3,323 फीट) लंबा है और इसका क्षेत्रफल 8 हेक्टेयर (20 एकड़) है। इसे दिसंबर 2006 में पूरा किया गया था।[10]

उत्तरी अमेरिका में सबसे बड़ा इनडोर वेव पूल वेस्ट एडमॉन्टन मॉल में स्थित है और सबसे बड़ा इनडोर पूल हाउस्टन के नासा जेएससी की सोनी कार्टर ट्रेनिंग फेसिलिटी में न्यूट्रल बॉयेंसी लैब पर बना है।[11][12]बेल्जियम में ब्रसेल्स के पास मनोरंजन गोताखोरी केंद्र नीमो 33 में दुनिया का सबसे गहरा स्विमिंग पूल स्थित है। पूल में 5 मी॰ (16 फीट) और 10 मी॰ (33 फीट) स्तर की गहराई पर दो बड़े सपाट-आधार वाले क्षेत्र हैं और 33 मी॰ (108 फीट) की गहराई वाला एक बड़ा सर्कुलर पिट बना हुआ है।[13]

कैलिफोर्निया के सैन फ्रांसिस्को में फ्लेशहैकर पूल संयुक्त राज्य अमेरिका का सबसे बड़ा स्विमिंग पूल था। 23 अप्रैल को 1925 खोले गए इस पूल की माप 1,000 x 150 फीट (300 x 50 मी॰) थी और यह इतना बड़ा था कि लाइफगार्ड्स को गश्त लगाने के लिए कायाक्स (नावों) की आवश्यकता पड़ती थी। धन की कमी के कारण इसे 1971 में बंद कर दिया गया था।[14]

अब तक के सबसे बड़े स्विमिंग पूलों में से एक को सोवियत महल के अपूर्ण रह जाने के बाद मास्को में बनाया गया था। स्टालिनीकरण को समाप्त करने की प्रक्रिया के बाद उसकी नीवों को मोस्कवा पूल में तब्दील कर दिया गया था जो एक ओपन एयर स्विमिंग पूल था।[15] साम्यवाद के पतन के बाद क्राइस्ट दी सेवियर कैथेड्रल को 1995 और 2000 के बीच फिर से बनाया गया था (यह मूलतः उस स्थल पर पहले से मौजूद था).

आयाम (डाइमेंशंस)संपादित करें

 
बच्चों के उथले पूल में एक लड़का
 
एक निजी स्विमिंग पूल
देखें: #प्रतियोगिता पूल (नीचे)
लंबाई

दुनिया के ज्यादातर पूलों को मीटर में मापा जाता है लेकिन संयुक्त राज्य अमेरिका के पूलों को लगभग हमेशा फीट और यार्ड्स (गज) में मापा जाता है। यूनाइटेड किंगडम (ब्रिटेन) में ज्यादातर पूलों की माप मीटर में है लेकिन यार्ड्स में मापे गए पुराने पूल अभी भी मौजूद हैं। अमेरिका में पूल 25 यार्ड्स (एससीवाय - शॉर्ट कोर्स यार्ड्स), 25 मीटर (एससीएम - शॉर्ट कोर्स मीटर्स) या 50 मीटर (लांग कोर्स) के होते हैं। अमेरिका हाई स्कूल और एनसीएए शॉर्ट कोर्स (25 यार्ड्स) प्रतियोगिताएं आयोजित करते हैं। वहाँ 33⅓ मीटर लम्बे कई पूल भी मौजूद हैं, इसलिए कि 3 लंबाई = 100 मीटर है। पूल का यह आयाम आम तौर पर वाटर पोलो के आयोजन के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

यूएसए स्विमिंग (यूएसए-एस) के लोग मेट्रिक और गैर-मेट्रिक पूलों में तैरते हैं। हालांकि अंतरराष्ट्रीय मानक मीटर है और विश्व रिकॉर्ड को केवल तभी मान्यता मिलती है जब इन्हें 50 मीटर (या शॉर्ट कोर्स के लिए 25 मीटर) के पूलों में तैरा जाता है। सामान्य रूप से एक ही दूरी के लिए पूल जितना छोटा होगा समय उतना तेज होगा, क्योंकि तैराक प्रत्येक बारी के बाद पूल के अंत में दीवार को धक्का देकर अपनी रफ़्तार को हासिल करता है।

चौड़ाई

अधिकांश यूरोपीय पूलों की चौडाई 10 मीटर और 50 मीटर के बीच होती है।

गहराई

किसी स्विमिंग पूल की गहराई पूल के उद्देश्य पर और इस बात पर निर्भर करती है कि क्या यह सार्वजनिक रूप से खुला है या सिर्फ निजी इस्तेमाल के लिए है। अगर यह एक निजी अनौपचारिक, आरामदायक पूल है तो यह इसकी गहराई 1.0 से 2.0 मी॰ (3.3 से 6.6 फीट) से आगे हो सकती है। अगर यह गोताखोरी (डाइविंग) के लिए डिजाइन किया गया एक सार्वजनिक पूल है तो यह अपने गहरे छोर में 3.0 से 5.5 मी॰ (9.8 से 18.0 फीट) से ढालू हो सकता है। बच्चों के खेलने का एक पूल 0.3 से 1.2 मी॰ (1 से 4 फीट) से गहरा हो सकता है। तैराकी संबंधी अलग-अलग आवश्यकताओं को समायोजित करने के लिए अधिकांश सार्वजनिक पूलों की गहराई में भिन्नता होती है। कई न्याय क्षेत्रों में पूल की दीवारों में चिपकाई गयी स्पष्ट रूप से चिह्नित गहराईयों के साथ पानी की गहराई को दिखाना आवश्यक होता है।

प्रकारसंपादित करें

निजी पूलसंपादित करें

 
रॉयल पर्थ अस्पताल में स्थित निजी पूल

निजी पूल (प्राइवेट पूल) सार्वजनिक पूल की तुलना में आम तौर पर छोटे होते हैं जिनका औसत 12 फीट × 24 फीट (3.7 मी॰ × 7.3 मी॰) से 20 फीट × 40 फीट (6.1 मी॰ × 12.2 मी॰) होता है जबकि सार्वजनिक पूल की शुरुआत आम तौर पर 80 फीट (24 मी॰) से होती है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] घरेलू ताल (होम पूल) स्थायी रूप से बने हो सकते हैं या जमीन के ऊपर बनाए जा सकते हैं और गर्मियों के बाद नष्ट किये जा सकते हैं।[16] पिछवाड़े के आँगन या उद्यान में निजी स्वामित्व वाले आउटडोर पूल 1950 के दशक में अधिक गर्मी वाले गरमी के मौसम संबंधी क्षेत्रों, विशेषकर संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रचुर मात्रा में बनाए गए।

 
मैनहट्टन, संयुक्त राज्य अमेरिका, में रूफटॉप (छत पर) पूल

निजी पूलों को व्यापक विस्तार वाले घरों की एक विशेषता के रूप में तेजी से शामिल किया जाने लगा है। उदाहरण के लिए लंदन में कई बड़े घरों को अब इनडोर पूलों के साथ फिर से सजाया जा रहा है जिन्हें आमतौर पर बेसमेंट या कंजरवेटरी में बनाया जाता है। म्यूनिख सहित कुछ यूरोपीय शहरों में पुरानी संपत्तियों (मकानों) में रहने वाले लोगों का मौजूदा आंतरिक मोटरगाड़ी के गैरेजों को इनडोर पूल क्षेत्रों में बदलना आम हो गया है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

 
जमीन से ऊपर निर्मित एक पूल

निजी पूल के निर्माण की विधियों में काफी भिन्नता होती है। जमीन पर निर्मित पुलों के मुख्य प्रकार हैं, कंक्रीट, विनाइल लाइनर और फाइबरग्लास. जमीन से ऊपर के पूलों (इन्हें "ऑन-ग्राउंड पूल्स" भी कहा जाता है) का निर्माण आमतौर पर अधिक सस्ता होता है। वे विशेष रूप से उन स्थानों पर लोकप्रिय हैं जहां जमीन के जमने के कारण खुदाई कठिन होती है और पूल संरचना को नुकसान पहुंच सकता है। सस्ते अस्थायी पीवीसी पूलों को सुपरमार्केट में खरीदा जा सकता है और गर्मी के बाद समेट कर रखा जा सकता है। उन्हें अधिकतर घर के बाहर इस्तेमाल किया जाता है, वे आमतौर पर उथले होते हैं और कड़ा रखने के लिए उनके किनारों को हवा भरकर फुला दिया जाता है। काम खतम होने के बाद हवा और पानी को निकालकर और मोड़कर इसे आसानी से कहीं रखा जा सकता है। स्विमिंग पूल उद्योग में इन्हें "स्प्लैशर" पूल माना जाता है जिसका इस्तेमाल तैरने की बजाय आराम करने तथा बच्चों का मनोरंजन करने के लिए किया जाता है।

बच्चों और अन्य लोगों के लिए पूल के पानी में खेलने वाले खिलौने उपलब्ध हैं। इन्हें अक्सर हवा के साथ उड़ाया जाता है इसीलिये ये कोमल होते हैं लेकिन फिर भी समुचित रूप से खुरदरे होते हैं और पानी में तैर सकते हैं।

कई देशों में अब निजी स्विमिंग पूलों के लिए पूलों पर घेरा लगाने वाले कड़े क़ानून (पूल फेंसिंग लॉ) बन गए हैं जिनके तहत पूल के क्षेत्रों को अलग रखने की आवश्यकता होती है ताकि छः साल से कम उम्र के अनधिकृत छोटे बच्चे इसमें प्रवेश ना कर सकें. कई देशों में घर में रहने या वहाँ आने वाले वाले बच्चों के लिए भी कड़ी सुरक्षा आवश्यक होती है, हालांकि कई पूल मालिक अपने पूल को घर के करीब ही रखना पसंद करते हैं और इस स्तर की सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं। राज्यों या देशों के बीच निजी स्विमिंग पूलों पर घेरा लगाने की आवश्यकताओं पर कोई आम सहमति नहीं है और कई जगहों पर, विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में इसकी बिलकुल भी आवश्यकता नहीं होती है।[17]

सार्वजनिक पूलसंपादित करें

सार्वजनिक पूल अक्सर एक बड़े अवकाश केन्द्र या मनोरंजन परिसर के भाग के रूप में पाए जाते हैं। इन केन्द्रों में अक्सर एक से अधिक पूल होते हैं, जैसे कि एक गर्म इनडोर पूल, एक आउटडोर नमकीन पानी (साल्ट वाटर) या ठंडे कलोरीनीकृत पूल, एक उथला बच्चों का पूल और नन्हें बच्चों एवं शिशुओं के लिए पैडलिंग पूल. इसके अलावा एक सॉना (sauna) और एक या अधिक हॉट टब या स्पा पूल ("जैकुजिस") भी हो सकते हैं।

 
नीदरलैंड्स के कुराकाओ के एक रिसॉर्ट का स्वीमिंग पूल

सार्वजनिक पूल किसी होटल या हॉलिडे रिजॉर्ट में उनके अतिथियों के लिए मनोरंजन के एक परिसर के रूप में होने चाहिएं. अगर कोई पूल एक अलग इमारत में है तो इस इमारत को एक "नैटोटोरियम" कहा जाता है। इमारत में कभी-कभी संबंधित गतिविधियों के लिए भी सुविधाएं मौजूद होती हैं, जैसे कि एक डाइविंग टैंक. आउटडोर पूल गर्म जलवायु में आम हैं। बडे पूलों में कभी-कभी पानी के ऊपर एक किनारे पर लगा हुआ एक डाइविंग बोर्ड भी होता है। डाइविंग पूलों को इतना गहरा होना चाहिये कि गोताखोरों (डाइवर्स) को कोई चोट ना पहुँचे।

कई सार्वजनिक पूल 25 मीटर या 50 मीटर लंबे आयताकार होते हैं लेकिन ये किसी भी वांछित आकार और स्वरूप के हो सकते हैं। इसके अलावा आकर्षक सुविधाओं में कृत्रिम झरने, फ़व्वारे, स्प्लैश पैड, वेव मशीन, पानी की अलग-अलग गहराई, पुल और आइलैंड बार भी शामिल हो सकते हैं।

कपड़ों और अन्य चीजों को रखने के लिये अक्सर लॉकर भी बने होते हैं। लॉकर्स में अक्सर जमा या भुगतान के रूप में सिक्के डालने की आवश्यकता होती है। इनमें अक्सर इस्तेमाल के लिये तैयार झरने (शॉवर) भी होते हैं – कभी-कभी अनिवार्य रूप से – जिनका उपयोग तैरने के पहले और/या बाद में किया जा सकता है। यहाँ लोगों की सुरक्षा के लिये अक्सर लाइफ़गार्ड्स भी मौजूद होते हैं।

वैडिंग पूल पानी के उथले स्वरूप होते हैं जिन्हें छोटे बच्चों द्वारा इस्तेमाल के इरादे से, आम तौर पर पार्कों में बनाया जाता है। कंक्रीट के वैडिंग पूल कई स्वरूपों में आते हैं जो परंपरागत रूप से आयताकार, चौकोर या गोलाकार होते हैं। फ़िल्टर प्रणाली के अभाव में इन्हें हर दिन भरा और खाली किया जाता है। कर्मचारी स्वास्थ्य और सुरक्षा के मानकों को सुनिश्चित करने के लिये पानी को क्लोरीनीकृत करते हैं।

प्रतियोगिता पूलसंपादित करें

 
वर्ल्ड चैम्पियनशिप और ग्रीष्मकालीन ओलंपिक के लिए उपयोग में लाये गए फिना (FINA) लॉन्ग कोर्स स्विमिंग पूल स्टेंडर्ड का एक सरलीकृत चित्र
 
ऑस्ट्रेलिया के मेलबोर्न में 2006 राष्ट्रमंडल खेलों के लिए प्रयुक्त ओलिंपिक स्विमिंग पूल और स्टार्टिंग ब्लॉक्स
देखें: # आयाम (डाइमेंशंस) (ऊपर) और तैराकी (खेल) # प्रतियोगिता पूल

फेडरेशन इंटरनेशनेल डी ला नैटेशन (एफआईएनए, अंतर्राष्ट्रीय तैराकी संघ) प्रतियोगिता पूलों के लिए मानकों का निर्धारण करता है: लंबाई 25 या 50 मी॰ (82 या 164 फीट) और गहराई कम से कम 1.35 मी॰ (4.4 फीट). प्रतियोगिता पूल आम तौर पर इनडोर होते हैं और सालों भर उपयोग के लिए और तापमान, प्रकाश व्यवस्था और स्वचालित स्थानापन्न उपकरण के संबंध में नियमों का अधिक आसानी से पालन करने में सक्षम बनाने के लिए इन्हें गर्म किया जाता है।

एक ओलंपिक आकार का स्विमिंग पूल (जिसे पहली बार 1924 के ओलंपिक्स में इस्तेमाल किया गया था) एक ऐसा पूल है जो ओलंपिक खेलों और विश्वस्तरीय चैंपियनशिप आयोजनों के लिये एफ़आईएनए के अतिरिक्त मानकों का पालन करता है। इसे अनिवार्य रूप से 50 मी॰ (160 फीट) लंबा x 25 मी॰ (82 फीट) चौड़ा, 2.5 मी॰ (8.2 फीट) के प्रत्येक आठ लेनों में विभाजित होना चाहिए और इसमें पूल के हर किनारे पर 2.5 मी॰ (8.2 फीट) के दो क्षेत्र होने चाहिएं.[18] पानी को अनिवार्य रूप से 25–28 °से. (77–82 °फ़ै) पर रखा रखा जाना चाहिये और प्रकाश का स्तर 1500 लक्स से अधिक होना चाहिए। गहराई कम से कम 2 मी॰ (6.6 फीट) होनी चाहिये, इसके अलावा लेन रोप के रंग, बैकस्ट्रोक फ़्लैग्स की स्थिति (प्रत्येक दीवार से 5 मीटर) और इसी तरह के अन्य नियम भी होते हैं। "ओलंपिक पूल्स" होने का दावा करने वाले पूल भी हमेशा इन नियमों का पालन नहीं करते हैं, क्योंकि एफ़आईएनए इस शब्द का पुलिसिया इस्तेमाल नहीं कर सकती है। लांग कोर्स मीट्स के लिये दोनों दीवारों पर और शॉर्ट कोर्स के लिये प्रत्येक छोर पर टचपैड बनाये जाते हैं।

किसी पूल को इसकी संरचनात्मक रूपरेखा (फिजिकल लेआउट) के आधार पर तेज (फास्ट) या धीमा (स्लो) कहा जा सकता है।[19] डिजाइन संबंधी कुछ धारणाएं तैराकी प्रतिरोध को कम करने की अनुमति देते हैं जिससे पूल को अधिक तेज बनाया जा सकता है: जिनके नाम हैं प्रोपर पूल डेप्थ (पूल की उचित गहराई), एलिमिनेशन ऑफ करेंट्स (धाराओं का उन्मूलन), इन्क्रीज्ड लेन विड्थ (लेन की चौडाई को बढ़ाना), इनर्जी ऑब्जर्विंग रेसिंग लेन लाइन्स एंड गटर्स (ऊर्जा अवशोषित करने वाले रेसिंग लेन लाइन एवं गटर और अन्य आधुनिक हाइड्रोलिक, एकॉस्टिक (ध्वनिक) और प्रकाश संबंधी डिजाइन.

व्यायाम पूल (एक्सरसाइज पूल)संपादित करें

पिछले दो दशकों में पूल की एक नई शैली ने लोकप्रियता हासिल की है। इनमें एक छोटा पात्र/वैसल (आम तौर पर लगभग 2.5 मीटर x 5 मीटर) होता है जिसमें तैराक अपनी जगह पर या तो कृत्रिम रूप से उत्पन्न की गयी पानी की धारा के धक्के के खिलाफ या फिर अवरोधक उपकरणों की खिंचावट के खिलाफ तैरता है। इन पूलों के कई नाम होते हैं जैसे कि स्विम स्पाज, स्विमिंग मशीन्स या स्विम सिस्टम्स . ये प्रतिरोधक तैराकी के विभिन्न तरीकों के उदाहरण हैं।

हॉट टब और स्पा पूलसंपादित करें

 
कारोलस थर्मन, एकेन, जर्मनी में मिनरल वॉटर वाला इंडोर स्विमिंग पूल

हॉट टब और स्पा पूल आम गर्म पूल होते हैं जिन्हें विश्राम के लिए और कभी-कभी उपचार के लिए इस्तेमाल किया जाता है। व्यावसायिक स्पा किसी हेल्थ क्लब या फिटनेस सेंटर, पुरुषों के क्लब, महिलाओं के क्लब, मॉटेल और विशिष्ट पाँच सितारा होटल के सुइट्स के स्विमिंग पूल क्षेत्र या सॉना क्षेत्र में आम तौर पर बने होते हैं। स्पा क्लबों में बहुत बड़े पूल बने हो सकते हैं जिनमें से कुछ बढ़ते तापमान में खंडों में विभाजित होते हैं। जापान में विभिन्न आकार और तापमान के कई स्पा वाले पुरुषों के क्लब आम तौर पर पाए जाते हैं। व्यावसायिक स्पा आम तौर पर कंक्रीट के बने होते हैं जिनमें मोजाइक टाइलों से तैयार इंटीरियर होते है। हॉटब टब आम तौर पर कुछ हद तक एक शराब के बैरल की तरह बने होते हैं जिनके सीधे किनारे लकड़ी जैसे कि धातु के हूप्स की जगह कैलिफोर्नियाई रेड वुड से बने होते हैं। पम्प सक्शन फोर्सेस से पानी के नीचे फंस जाने के संभावित जोखिम के कारण स्पा या हॉट टब में सिर को डुबाने की सलाह नहीं दी जाती है। हालांकि कई देशों में व्यावसायिक प्रतिष्ठान विभिन्न सुरक्षा मानकों का अनिवार्य रूप से पालन करते हैं जो इस जोखिम को काफी हद तक कम कर देता है।

होम स्पा 1980 के दशक के बाद से पश्चिमी देशों में दुनिया भर की खुदरा सामग्री (रिटेल आइटम) के रूप में लोकप्रिय हैं और इन्हें समर्पित स्पा स्टोरों, पूल शॉप्स, डिपार्टमेंट स्टोर, इंटरनेट और कैटलॉग सेल्स बुक्स के जरिये बेचा जाता है। इन्हें लगभग हमेशा हीट-एक्सट्रूडेड एक्रिलिक शीट पर्स्पेक्स से बनाया जाता है और अक्सर मार्बल जैसे दिखने वाले पैटर्न में रंगा जाता है। ये शायद ही कभी 8 वर्ग फुट (0.74 मी2) से अधिक होते हैं और आम तौर पर 3 फीट 6 इंच (1.07 मी॰) गहरे होते हैं, जिन्हें कच्चे शीट आकारों (आमतौर पर जापान में निर्मित) की उपलब्धता द्वारा नियंत्रित किया जाता है। इनमें अक्सर एक मध्यम-गहराई की बैठने की व्यवस्था या लान्जिंग प्रणाली होती है और एक निर्धारित रूपरेखा वाली लाउन्जर शैली की बिछी हुई सीटें आम हैं। एक अत्याधुनिक स्पा में विभिन्न जेट नोजल्स (मसाज, पल्सेटिंग आदि), एक ड्रिंक ट्रे, रोशनी, एलसीडी फ्लैट स्क्रीन टीवी सेट और अन्य सुविधाएं शामिल होती हैं जो पूल को एक सम्पूर्ण मनोरंजन केन्द्र बनाते हैं। अपनी परिवार उन्मुख प्रकृति के कारण होम स्पा आम तौर पर 36 से 39 °से. (97 से 102 °फ़ै) से संचालित किये जाते हैं। कई पूलों को एक रेडवुड या कृत्रिम लकड़ी के घेरों में तैयार किया जाता है और इन्हें "पोर्टेबल" का नाम दिया जाता है क्योंकि इन्हें एक स्थायी जगह पर डुबा/बिठा देने की बजाय एक चौके (पेटियों) पर रखा जा सकता है। कुछ पोर्टेबल स्पा इतने उथले और संकीर्ण होते हैं कि इन्हें एक स्टैण्डर्ड दरवाजे के जरिये किनारे से व्यवस्थित करना और एक कमरे के अंदर इस्तेमाल करना मुश्किल होता है। होम स्पा के मामले में कम क्षमता वाले इलेक्ट्रिक इमर्सन हीटर आम है।

वर्लपूल के टब 1960 और 70 के दशक के दौरान सबसे पहले अमेरिका में लोकप्रिय हुए थे। स्पा को संयुक्त राज्य अमेरिका में "जैकुजी" भी कहा जाता है क्योंकि 1968 में प्लंबिंग सामग्री के निर्माता जैकुजी द्वारा "स्पा वर्लपूल" को पेश किये जाने के बाद यह एक सामान्य शब्द बन गया था। अगर तापमान असुविधाजनक रूप से बढ़ जाता है तो पूल को ठंडा करने के लिए हवा के बुलबुलों (एयर बबल्स) को एक एयर-ब्लीड वेंचुरी पम्प के जरिये नोजलों में डाला जा सकता है जो ठंडी हवा को अंदर वाले गर्म पानी के साथ मिला देता है। कुछ स्पा में पूल के बैठने वाले क्षेत्र या फूटवेल क्षेत्र के माध्यम से बुलबुलों के एक निरंतर प्रवाह को बनाए रखा जाता है। जहाँ गर्म पानी कृत्रिम रूप से गर्म किये जाने की बजाय एक प्राकृतिक (अनियंत्रित तापमान) जीयोथर्मिक स्रोत से आता है वहाँ यह एक तापमान नियंत्रक उपकरण के रूप में आम तौर पर मौजूद है। गर्म करने के लिए पानी का तापमान आम तौर पर बहुत गर्म होता है - 38 से 42 °से. (100 से 108 °फ़ै), इसलिए नहाने वाले सामान्यतः केवल 20 से 30 मिनट के लिए पानी में रहते हैं। स्पा के लिए अक्सर ब्रोमिन या मिनरल सैनिटाइजर का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है क्योंकि क्लोरीन एक उच्च तापमान पर वाष्पित हो जाता है जिससे इसकी तेज रासायनिक गंध काफी बढ़ जाती है। ओजोन एक प्रभावी जीवाणु नाशक है और इसे आम तौर पर कार्ट्रिज फिल्टरेशन के साथ सर्कुलेशन सिस्टम में शामिल किया जाता है लेकिन गंदी शारीरिक वसा (टर्बिड बॉडी फैट्स) के साथ अवरोधक समस्याओं के कारण इसे सैंड मीडिया फिल्टरेशन के साथ शामिल नहीं किया जाता है।

 
ऑस्ट्रेलिया, न्यू साउथ वेल्स, सिडनी में कूगी में एक ओशन पूल

ओशन पूल (समुद्री ताल)संपादित करें

20वीं सदी की शुरुआत में विशेषकर ऑस्ट्रेलिया में ओशन पूलों को आम तौर पर अंतरीपों (हेडलैंड्स) पर रॉक शेल्फ के भाग को घेरकर बनाया गया था जिनमें पूलों के माध्यम से ज्वारीय टैंकों द्वारा या उच्च ज्वार पर पूलों के किनारे से नियमित प्रवाह द्वारा पानी प्रवाहित किया जाता था। पुरुषों और महिलाओं के लिए अक्सर अलग-अलग पूल होते थे या पूल को दोनों लिंगों के लिए अलग-अलग समय पर खोला जाता था जहाँ विपरीत लिंगों द्वारा देखे जाने के प्रति निडर होकर नहाने वालों के लिए एक अंतराल होता था। अलग-अलग बदलने वाले शेड और शॉवर उपलब्ध कराये जाते थे।[20] ये आधुनिक 'ओलंपिक पूल्स' के अग्रदूत थे। बाद के समुद्री- या बंदरगाह के किनारे स्थित पूलों में एक भिन्नता यह थी कि पम्पों के इस्तेमाल से इनमें समुद्र का पानी प्रवाहित किया जाता था। इस प्रकार का एक पूल ऑस्ट्रेलियाई ओलंपिक खिलाड़ी डॉन फ्रेजर के लिए प्रशिक्षण का केंद्र था।

इन्फिनिटी पूलसंपादित करें

 
स्पेन, ग्रान कैनरिया के एक होटल में एक इन्फिनिटी पूल

एक इनफिनिटी एज पूल (जिसे निगेटिव एज या वैनिशिंग एज पूल का भी नाम दिया गया था) एक ऐसा स्विमिंग पूल है जो पानी के होराइजन, वैनिशिंग या "इनफिनिटी" तक विस्तार का दृश्य प्रभाव (विजुअल इफेक्ट) पैदा करता है। पानी अक्सर समुद्र, झील, खाड़ी या इसी तरह की अन्य संरचना में गिरता दिखाई देता है। इल्यूजन (भ्रम) उस समय सबसे प्रभावी होता है जब कभी एलिवेशन (ऊँचाई) में काफी बदलाव किया जाता है हालांकि होराइजन पर पानी की एक प्राकृतिक संरचना का होना एक नियंत्रित करने वाला कारक नहीं है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

प्राकृतिक ताल और तालाबसंपादित करें

 
इस जर्मन स्वीमिंग पौंड में उजागर किया गया कि NSPs को आसपास के क्षेत्रों के अनुरूप किस प्रकार बनाया जा सकता है

प्राकृतिक तालों (नैचुरल पूल्स) को पश्चिमी और मध्य यूरोप में 1980 के दशक की शुरुआत और मध्य में पर्यावरण संबंधी चिंताओं के साथ डिजाइनरों और लैंडस्केप वास्तुकारों द्वारा विकसित किया गया था। हाल के दिनों में परंपरागत स्विमिंग पूलों के एक विकल्प के रूप में इनकी लोकप्रियता तेजी से बढ़ी है।[21] एनएसपीज पानी की ऐसी निर्मित संरचनाएं हैं जिनमें पानी को असंक्रमित या स्टेरिलाइज करने वाले किसी तरह के रसायनों या उपकरणों का इस्तेमाल नहीं किया जाता है और पूल की सफ़ाई की संपूर्ण प्रक्रिया शुद्ध रूप से पानी के प्रवाह के जरिये जैविक फ़िल्टरों के माध्यम से और हाइड्रोफ़ोनिक तरीके से प्रणाली में पौधों को रोपित कर अंजाम दी जाती है। संक्षेप में एनएसपीज स्विमिंग होल्स और स्विमिंग लेक्स को फ़िर से एक ऐसे माहौल के रूप में विकसित करना चाह्ती है जहाँ लोग एक प्रदूषण-रहित, स्वास्थ्यकर और पानी के पारिस्थितिक रूप से संतुलित निकाय में एक सुरक्षित तैराकी का अनुभव कर सकें.

एनएसपीज में पानी 100% रसायन रहित होने के कारण इसमें कई वांछ्नीय विशेषताएं होती हैं। उदाहरण के लिए लाल आँखें, सूखी त्वचा और बाल और ब्लीच्ड बाथिंग सूट के साथ-साथ बहुत अधिक क्लोरीनीकृत पानी की समस्या स्वाभाविक रूप से नहीं देखी जाती है। एनएसपीज में प्रणाली के एक हिस्से के रूप में जल उद्यान (वाटर गार्डन) की आवशकता के कारण ये विभिन्न सौन्दर्यात्मक विकल्प प्रस्तुत करते हैं और उभयचर वन्य जीवों जैसे कि घोंघे, मेंढकों और सैलामांडरों की मदद कर सकते हैं।

जीरो इंट्री स्विमिंग पूलसंपादित करें

जीरो-इंट्री स्विमिंग पूल जिसे बीच इंट्री स्विमिंग पूल भी कहा जाता है, यह एक ऐसा स्विमिंग पूल है जिसमें डेक से पानी के अंदर धीरे-धीरे ढलवां होते हुए जाने वाला एक किनारा या प्रवेश मार्ग होता है जो एक प्राकृतिक समुद्री तट (बीच) की तरह प्रत्येक पायदान के बाद अधिक गहरा होता जाता है। क्योंकि मार्गदर्शन के लिए कोई सीढ़ी या जीना नहीं होता है, इस तरह का प्रवेश मार्ग बूढ़े लोगों, छोटे बच्चों और पहुँच की समस्या वाले लोगों को मदद करता है जहाँ एक समान गति से प्रवेश उपयोगी होता है।

अन्य उपयोगसंपादित करें

 
एक अंतरिक्ष यात्री स्विमिंग पूल में उतरते हुए

स्विमिंग पूलों का उपयोग अंडरवाटर हॉकी, सिन्क्रोनाइज्ड स्विमिंग, वाटर पोलो और कैनो पोलो जैसे आयोजनों के साथ-साथ गोताखोरी और जीवन रक्षक तकनीको के प्रशिक्षण के लिए भी किया जाता है। इन्हें विशिष्ट प्रयोजनों जैसे कि विमान और पनडुब्बी चालक दल के लिए वाटर-डिचिंग सरवाइवल टेकनीक के प्रशिक्षण में और अंतरिक्ष यात्रियों के प्रशिक्षण के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। गोल कोनों वाले, अनियमित स्विमिंग पूल जैसे कि न्यूड बॉल के मामले में पानी को बाहर निकाल लिया जाता है और वर्टिकल स्केटबोर्डिंग के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

सैनिटेशन (सफाई)संपादित करें

उपयोगकर्ताओं के बीच बीमारियों और रोगज़नक़ों के प्रसार को रोकने के लिए स्विमिंग पूल के पानी में बैक्टीरिया और वायरस का निम्नतम स्तर बनाए रखना अनिवार्य होता है। बैक्टीरिया, शैवाल और कीट लार्वा भी तैराकों की मदद के बिना पूल में प्रवेश कर सकते हैं और इस क्षेत्र में तैराकों के साथ-साथ अन्य लोगों के लिए बीमारी का कारण बन सकते हैं।

इस तरह के रोगज़नक़ों को फ़िल्टर करके पानी से बाहर निकालने के लिए अक्सर पंपों और यांत्रिक फिल्टरों प्रयोग किया जाता है। रासायनिक कीटाणुनाशक जैसे कि हाइड्रोक्लोरस एसिड, सोडियम हाइपोकलोराइट (घरेलू ब्लीच), ब्रोमिन, टेबल नमक या मिनरल सैनिटाइजरों का उपयोग पानी को रोगजनकों के प्रति प्रतिरोधक बनाने के लिए किया जाता है। इस तरह के पदार्थ पानी को हल्के नीले/हरे रंग में बदल देते हैं।[22] रासायनिक कीटाणुशोधन की प्रक्रिया से डिसइन्फेक्शन बाइप्रोडक्ट उत्पन्न होते हैं जिन्हें ट्राइहैलोमीथेंस कहा जाता है।

रसायन मुक्त, इलेक्ट्रॉनिक आक्सीकरण वाटर सैनिटेशन क्लोरीन, साल्ट क्लोरीनेशन और ओज़ोन (O3) के लिये एक विकल्प प्रस्तुत करता है हलांकि यह विशेष रूप से धातुओं पर निर्भर करता है जो अल्प मात्रा में जलीय जीवन के लिये विषाक्त हो सकता है। ऑक्सीजन पूलों को स्वयं नैचुरल ऑक्सीकारक हाइड्रॉक्सिल (HO), आणविक ऑक्सीजन (O), हाइड्रोजन पेरोक्साइड (H2O2) और आणविक ऑक्सीजन (O2) उत्पन्न करने के लिये पानी के कणों के इलेक्ट्रोनिक ऑक्सीकरण के माध्यम से तैयार किया जाता है। इन सभी में क्लोरीन की तुलना में अधिक ऑक्सीकरण अवकरण क्षमता (ओआरपी) होती है। इलेक्ट्रॉनिक ऑक्सीकरण क्लोरीन, ओजोन या यूवी द्वारा एक घंटे में उत्पन्न जिये जाने वाले ऑक्सीकारकों की तुलना में कहीं अधिक ऑक्सीकरक 1 मिनट से भी कम समय में उत्पन्न करता है। इलेक्ट्रॉनिक ऑक्सीकरण के साथ-साथ निम्न स्तर का कॉपर आयनाइजेशन (0.5 पीपीएम) एक बहुत प्रभावी पूल सैनिटाइजेशन प्रदान करता है जो 100% क्लोरीन मुक्त होता है लेकिन पर्यावरण की दृष्टि से लाभदायक नहीं होता है क्योंकि धातु की तुलना में क्लोरीन कहीं अधिक स्थायी और पार्ट्स प्रति बिलियन रेंज में जलीय जीवन के लिए विषाक्त होता है।[23]

कवरसंपादित करें

स्विमिंग पूल को गर्म करने की लागत को एक पूल कवर का उपयोग कर काफी कम किया जा सकता है। पूल कवर का इस्तेमाल पूल के लिए आवश्यक रसायनों (क्लोरीन, आदि) की मात्रा को कम करने में मदद कर सकता है। पूल की सतह से टकराने वाली 75%-85% सौर ऊर्जा को अवशोषित कर आउटडोर पूल सूरज से गर्मी प्राप्त करते हैं। हालांकि कवर पूल द्वारा अवशोषित सौर ताप की कुल मात्रा को कम कर देता है, कवर वाष्पीकरण के कारण हीट लॉस को ख़त्म करता है और अपनी इंसुलेटिंग संबंधी विशेषताओं से रात में होने वाले हीट लॉस को कम करता है। स्विमिंग पूल का ज्यादातर हीट लॉस वाष्पीकरण के माध्यम से होता है।[24]

किसी कवर की गर्म करने की प्रभावशीलता इसके प्रकार पर निर्भर करती है। एक पारदर्शी बबल कवर सबसे प्रभावी होता है क्योंकि यह सौर प्रवाह (सोलर फ्लक्स) की सबसे बड़ी मात्रा को पूल में ही प्रवाहित कर देता है। थर्मल बबल कवर हल्के यूवी स्टैबलाइज्ड फ्लोटिंग कवर होते हैं जिन्हें गर्म किये गए स्विमिंग पूलों में हीट लॉस को कम करने के लिए डिजाइन किया गया होता है। आम तौर पर इन्हें केवल वसंत और शरद (पतझड़) के मौसम में फिट किया जाता है जब पूल के पानी और हवा के तापमान के बीच तापमान का अंतर सबसे अधिक होता है। ये एक सप्ताह तक पूल में रहने के बाद पूल के तापमान को लगभग 20 डिग्री फारेनहाइट या 11 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ा देते हैं। बबल कवरों को आम तौर पर पूल के एक किनारे फिट किये गए उपकरण (डिवाइस) पर लुढ़का कर लगाया या हटाया जाता है (देखें उदाहरण). कवर सूरज के संपर्क में रहने, पूल से बाहर रहने पर सूरज की बहुत अधिक गर्मी पड़ने से और प्लास्टिक पर क्लोरीन की प्रतिक्रया के कारण 4 या 5 सालों के बाद टुकड़े-टुकड़े हो जाते हैं। बबल कवरों को सुपर क्लोरिनेशन के दौरान हटा लिया जाना चाहिए।

एक विनाइल कवर सीधे तौर पर अधिक सूरज की रोशनी को अवशोषित करता है जिससे तापमान तेजी से बढ़ जाता है लेकिन अन्ततः पूल को एक क्लीयर कवर के तापमान के बराबर पहुँचने से रोक देता है।[25] विनाइल कवर एक अपेक्षाकृत भारी सामग्री से बना होता है और बबल कवर की तुलना में इसकी उम्र अधिक होती है। इन्सुलेटेड विनाइल कवर भी उपलब्ध हैं जिसमें विनाइल की दो परतों के बीच फ़्लेक्सिबल इन्सुलेशन की एक पतली परत सैंड्विच की तरह मौजूद होती है।[25] ऑस्ट्रेलिया, जिसने 2006 के बाद सूखे का सामना किया है, इसके क्षेत्रों में सभी पूलों में फ़िट किये जाने के लिये ये कवर अनिवार्य होते हैं (साइटेशन की आवश्यकता है). यह पानी के संरक्षण के लिये एक प्रयास है क्योंकि ज्यादातर पानी अवशोषित और रूपांतरित हो जाता है।

पूल कवरिंग के एक लगातार शीट का एक विकल्प अनेकों फ़्लोटिंग डिस्कों के रूप में है जिन्हें डिस्क दर डिस्क लगाया और हटाया जा सकता है। ये पूल के ज्यादातर सतह को कवर कर लेते हैं और निरंतर कवरों की तरह वाष्पीकरण को कम कर देते हैं। इसके कई प्रकार उपलब्ध हैं, उदाहरण के लिये अपारदर्शी (यूवी प्रतिरोध के लिये और शैवालों के संभावित विकास को कम करने के लिये), पारदर्शी (सौन्दर्य के लिये), भारी और ठोस (हवा के प्रतिरोध के लिये), हल्के और हवा भरने योग्य (आसान रख-रखाव के लिये).

सुरक्षा कवर (सेफ़्टी कवर)

ये कवर विशेष रूप से सर्दी के पूरे मौसम में हूक लगी हुई बंगी या हूक वाले स्प्रिंग से लगे रहते हैं जो पूल के डेक से जुडा होता है और इन्हें आम तौर पर कोटेड या लेमिनेटेड विनाइल या पोलीप्रोपाइलीन मेश सहित विभिन्न प्रकार की सामग्रियों से बनाया गया होता है। इन्हें पूल के अंदर पत्तों के कचरों के प्रवेश को रोकने के लिये परंपरागत रूप से डिजाइन (कस्टम डिजाइन्ड) किया गया होता है लेकिन महत्वपूर्ण बात यह है कि समुचित रूप से डिजाइन किये जाने और संस्थापित किये जाने पर ये जानवरों और छोटे बच्चों के लिये सुरक्षा भी प्रदान करते हैं। कस्टम सेफ़्टी कवर की खोज 1957 में मेयो पूल कवर्स के फ़्रेड मेयर जूनियर द्वारा की गयी थी जब उन्होंने अपने पूल में एक जानवर को मरा हुआ पाया। आज कवरों को एएसटीएम सुरक्षा अवरोध मानकों का पालन करने और जानवरों, लोगों और यहाँ तक कि बड़े वाहनों को पूल से बाहर रखने के हिसाब से तैयार किया जाता है। गर्म जलवायु में ये अधिक लोकप्रिय नहीं होते हैं क्योंकि इन्हें लगाने/हटाने में पाँच से दस मिनट का समय लग जाता है जो इन्हें बार-बार लगाने और हटाने के लिये असुविधाजनक बनाता है।

पूल कवर आटोमेशनसंपादित करें

 
स्वचालित पूल कवर

किसी पूल कवर को हस्तचालित रूप से (मैनुअली), अर्द्ध-स्वचालित रूप से (सेमी-ऑटोमेटिकली) या स्वचालित रूप से (ऑटोमेटिकली) संचालित किया जा सकता है। मैनुअल कवरों को लपेटकर (रोल कर) एक सुविधाजनक स्थान पर रखा जा सकता है। पूल कवर को हाथों से रोल करने में मदद के लिये पूल कवर रीलों का भी इस्तेमाल किया जाता है। आम तौर पर पहियों पर मौजूद रील को उसी स्थान पर या बाहर रोल किया जा सकता है।

सेमी-ऑटोमेटिक कवरों में एक मोटर-चालित रील प्रणाली का उपयोग किया जाता है। ये कवर को लपेटने और खोलने के लिये बिजली का उपयोग करते हैं लेकिन आम तौर पर इनके लिये खोले जाते समय कवर को खींचने में या कवर को लपेटे जाते समय इसे रील पर चढ़ाने में मदद के लिये किसी व्यक्ति की मदद की जरूरत पड़ती है। सेमी-आटोमेटिक कवरों को पूल के चारों ओर बने पूल डेक में बनाया जा सकता है या गाडियों पर रखे रीलों का उपयोग किया जा सकता है।

ऑटोमेटिक कवरों में स्थायी रूप से बने रील मौजूद होते हैं जो पूल को एक बटन दबाकर स्वचालित रूप से कवर कर देते हैं और इसे खोल देते हैं। ये सबसे महँगे विकल्प हैं लेकिन सबसे अधिक सुविधाजक भी होते हैं। इन रीलों को या तो एक बाहरी मोटर से चलाया जा सकता है जिसके लिये पूल के किनारे एक गड्ढा खोदने की जरूरत होती है या फ़िर एक आंतरिक मोटर का उपयोग किया जाता है जो रील को घुमाता है।

कुछ पूल कवर पूल के किनारों के साथ मौजूद ट्रैकों में फ़िट हो जाते हैं। यह किसी भी व्यक्ति या किसी भी चीज को पूल में प्रवेश करने से रोक देता है। ये कई लोगों के वजन को भी सहन कर सकते हैं। इन्हें हाथों से, अर्द्ध-स्वचालित रूप से या स्वचालित रूप से चलाया जा सकता है। सार्वजनिक पूलों के लिये इंस्पेक्टरों को सेफ़्टी कवरों की आवश्यकता हो सकती है।[25]

विंटराइजेशन (शीतलीकरण)संपादित करें

जिन क्षेत्रों में तापमान फ़्रीजिंग स्तर पर पहुँच जाता है, पूल को सही तरीके से बंद करना महत्वपूर्ण हो जाता है। इसमें जमीन के अंदर (इन-ग्राउंड) और जमीन के ऊपर (एबोव-ग्राउंड) बने पूलों के मामले में काफ़ी अंतर होता है। पूल को समुचित रूप से सुरक्षित रखने के कदम उठाकर इस बात की संभावना को काफ़ी कम कर दिया जाता है कि बर्फ़ीले पानी (फ़्रीजिंग वाटर) से सुपरस्ट्रक्चर क्षतिग्रस्त हो सकता है या इसकी उपयोगिता पर असर पड़ता है।[26]

क्लोजिंग विनाइल और फ़ाइबरग्लास पूलसंपादित करें

 
एक रोल किया हुआ थर्मल बबल पूल कवर; पूल से वाष्पीकरण और गर्मी के कारण पानी के नुकसान को कम करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है

फ़्रीजिंग ताप के लिये तैयार करने में जमीन के अंदर बने स्विमिंग पूल के पाइपों को अनिवार्य रूप से खाली कर दिया जाता है। जमीन के ऊपर बने पूल को भी बंद कर दिया जाना चाहिए जिससे कि बर्फ़ पूल की दीवार को नीचे ना खींच ले और इसकी संरचना नष्ट ना हो जाये. बर्फ़ीले पानी (फ़्रीजिंग वाटर) से होने वाले दरार को रोकने के लिये प्लंबिंग को हवा से, विशेषकर रबड़ के प्लग से सील कर दिया जाता है। पूल को विशेष तौर पर इसमें पत्तों और अन्य कचरों के गिरने से रोकने के लिये कवर कर दिया जाता है। कवर को बंगी कार्ड की तरह के एक स्ट्रेच कार्ड के इस्तेमाल से पूल के साथ जोड़ दिया जाता है और हूकों को पूल के अन्दर चारों ओर फ़िट कर दिया जाता है। इसे पूरी तरह जम जाने और दरार से रोकने के लिये इसके अंदर स्किमर को बंद कर दिया जाता है या इसके अंदर एक फ़्लोटिंग डिवाइस लगा दिया जाता है। कवर के अंदर इसे जमने से रोकने के लिये फ़्लोटिंग ऑब्जेक्ट्स जैसे कि लाइफ़ रिंग्स या बास्केट बॉलों को पूल में रखा जा सकता है। फ़िल्टर को साफ़ कर लिये जाने के बाद पूल फ़िल्टर पर लगे ड्रेन प्लगों को हटा लिया जाता है। पूल पंप मोटर को कवर के नीचे रखा जाता है। पूल को स्वच्छ रखने के लिये सर्दियों के रसायन (विंटर केमिकल्स) का इस्तेमाल किया जाता है।

ऐसे मौसम में जहाँ जमने का कोई खतरा नहीं होता है, सर्दियों के लिये पूल को बंद कर देना उतना महत्वपूर्ण नहीं होता है। विशेष तौर पर थर्मल कवर को हटा लिया जाता है और इसे सुरक्षित रखा जाता है। जब पूरी सर्दियों में छोड़ दिये गये एक कवर को हटाया जाता है तो सर्दियों में सूरज की रोशनी काफ़ी मात्रा में शैवालों की गंदगी पैदा कर सकता है। पूल सही तरीके से पीएच (pH) संतुलित और सुपर-क्लोरीनीकृत होता है। प्रत्येक 50,000 लीटर पूल के पानी के लिये एक लीटर शैवाल नाशक को शामिल किया जाना चाहिए और इसे हर महीने टॉप-अप किया जाना चाहिए। स्वचालित क्लोरीनीकरण प्रणाली को सक्रिय रखने के लिये पूल को हर दिन एक से दो घंटे के लिये फ़िल्टर किया जाना चाहिए।

सुरक्षा (सेफ़्टी)संपादित करें

 
प्रशिक्षक बच्चों को तैराकी सिखाते हुए

पूल में नवजात बच्चों और शिशुओं के डूबकर मरने का जोखिम काफ़ी होता है। उन क्षेत्रों में जहाँ आवासीय पूल आम होते हैं डूबना बच्चों के मारे जाने का एक प्रमुख कारण होता है। एक एहतियात के रूप में कई नगरपालिकाओं में ऐसे नियम बने होते हैं जिसके अनुसार आवासीय पूलों में अनधिकृत पहुँच को रोकने के लिये इसके चारों ओर घेरा बनाने की आवश्यकता होती है। वर्जिनिया ग्रीम बेकर पूल एंड स्पा सेफ़्टी एक्ट पूलों को इनमे फ़ंसने के खतरे को कम करने के लिये इसका नियंत्रण करता है।

इसके लिये कई उत्पाद मौजूद हैं जैसे कि हटाने योग्य शिशु घेरे (रिमूवेबल बेबी फ़ेन्सेस), फ़्लोटिंग अलार्म और विंडो/डोर अलार्म. कुछ पूलों में कंप्यूटर-चालित ड्रॉनिंग प्रिवेंशन या इलेक्ट्रॉनिक सेफ़्टी और सिक्योरिटी सिस्टम के अन्य स्वरूपों की सुविधा मौजूद होती है। इनडोर स्विमिंग पूल में सस्पेंडेड सीलिंग सुरक्षा-संबंधी घटक हैं।[27]

कई वैज्ञानिक अध्ययनों ने यह दिखाया है कि नियमित रूप से तैरने वाले या इनडोर स्विमिंग पूलों के अंदर और इसके आसपास काम करने वाले लोगों को अस्थमा की शिकायतें अधिक पायी जाती हैं। बच्चों के साथ किये गये एक अन्य अध्ययन में यह पाया गया कि जो बच्चे एक सप्ताह में 1.8 घंटे या इससे अधिक समय तक इनडोर स्विमिंग पूलों में तैरते थे, उनके फ़ेफ़डों की स्थिति बहुत अधिक धूम्रपान करने वाले व्यक्ति जैसी हो गयी थी। इसके अलावा यह भी दिखाया गया था कि स्विमिंग पूलों से क्लोरीन का संपर्क मूत्राशय और किडनी कैंसर के खतरे को 56% से अधिक बढ़ा देता है, इसे ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में आयोजित वर्ष 2000 के ओलंपिक्स में भी नोट किया गया था जहाँ 25% अमेरिकी ओलंपिक तैराकी टीम इसी स्तर के अस्थमा से ग्रस्त थी।[28]

ड्रेस कोडसंपादित करें

सार्वजनिक स्विमिंग पूलों में ड्रेस कोड सार्वजनिक बीचों (समुद्र तट) की तुलना में अधिक कड़े और आउटडोर पूलों की तुलना में इनडोर पूलों में अधिक सख्त हो सकते हैं। उदाहरण के लिये उन देशों में जहाँ महिलाएं को बीचों पर टॉपलेस रहने की आजादी है, स्विमिंग पूलों में इसकी इजाजत नहीं दी जाती है और स्विम सूट पहनना अनिवार्य होता है। पुरुषों के लिये एक बीच पर जूते और शर्ट पहनना स्वीकार्य है लेकिन पूलों में अक्सर ऐसा नहीं होता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

समुद्र तटों (बीचों) पर कई लोग कपड़े पहनकर तैरते हैं और बीचवीयर पहनते हैं लेकिन पूलों में (विशेषकर इनडोर पूलों में) अक्सर कम से कम कपड़े पहने जाते हैं जैसे कि पुरुषों के लिये लाइक्रा ब्रीफ़्स और महिलाओं के लिये लाइक्रा वन-पीस टैंकसूट. कपड़े पहनकर तैरने पर, अक्सर पूलों (विशेषकर इनडोर पूलों) में मौजूद लाइफ़गार्ड्स आपत्ति कर सकते हैं। फ़्रांस और कुछ अन्य यूरोपीय देशों में स्वच्छता संबंधी कारणों से आम तौर पर बोर्ड शॉर्ट्स की अनुमति नहीं होती है। स्कैंडिनेवियाई देशों में और विशेषकर आइसलैंड में कपड़े और स्वच्छता के बारे में नियम खास तौर पर सख्त हैं।[29] एक ऊँचे स्थान से गोता लगाते समय बाथिंग सूट्स को कभी-कभी दोहराकर (एक के अंदर दूसरा ब्रीफ़ पहनना) पहना जाता है ताकि पानी के प्रभाव से स्विमसूट फटे ना.

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

  • स्वचालित पूल क्लीनर
  • बाथर लोड
  • समुद्र तट
  • डिब्बल डेबल
  • सार्वजनिक तरणताल
  • पूल फ़ेन्स (पूल का घेरा)
  • स्विमिंग पूल के खेल
  • यूरिन-इंडिकेटर डाई

सन्दर्भसंपादित करें

  1. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  2. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  3. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  4. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  5. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  6. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  7. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  8. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  9. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  10. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  11. Edmonton.com: Travel, Tourism & Leisure Archived 1 मार्च 2007 at the वेबैक मशीन. 15 अप्रैल 2007 को एक्सेस किया गया
  12. नासा, बिहाइंड दी सीन्स: ट्रेनिंग Archived 5 जून 2011 at the वेबैक मशीन., 7 मई 2007 को एक्सेस किया गया
  13. बीबीसी, वर्ल्डस डीपेस्ट पूल सेट टू ओपन Archived 20 जून 2018 at the वेबैक मशीन. 15 अप्रैल 2007 को एक्सेस किया गया
  14. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  15. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  16. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  17. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  18. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  19. "ज़ेसिजर पूल डिजाइन Archived 27 मार्च 2009 at the वेबैक मशीन.", ज़ेसिजर खेल और फिटनेस सेंटर, एमआईटी, 2007-02-04 को एक्सेस किया गया
  20. "स्टोरीज़ फ्रॉम दी याम्बा ओशियन पूल Archived 30 मई 2006 at the वेबैक मशीन.", ऑस्ट्रेलियन ब्रोडकास्टिंग कोर्पोरेशन, [] 2006-12-28 को एक्सेस किया गया
  21. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  22. सहात्चाई वानावोंग्सावाद द्वारा दी थ्योरी ऑफ कलर्स ऑफ वाटर इन दी स्विमिंग पूल Archived 15 जुलाई 2011 at the वेबैक मशीन.
  23. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  24. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  25. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  26. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  27. एम. फालेर और पी. रिच्नर: मैटेरियल सेलेक्शन ऑफ सेफ्टी-रिलेवेंट कॉम्पोनेन्टस इन इनडोर स्वीमिंग पूल्स, मैटेरियल्स और करोशन 54 (2003) एस. 331 - 338. (ओन्ली ऑन्लाइन इन जर्मन (3.6 एमबी) Archived 27 मार्च 2016 at the वेबैक मशीन.) (आस्क फोर ए कॉपी ऑफ दी इंग्लिश वर्ज़न Archived 5 अक्टूबर 2010 at the वेबैक मशीन.)
  28. लुआ त्रुटि Module:Citation/CS1 में पंक्ति 834 पर: Argument map not defined for this variable: Newsgroup।
  29. विजिट रिक्जेविक - दी ऑफिशियल टूरिस्ट वेबसाईट ऑफ रिक्जेविक, 24 दिसम्बर 2009 को एक्सेस किया गया

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें