तांत्रिक वाङ्मय में शाक्त दृष्टि

तांत्रिक वाङ्मय में शाक्त दृष्टि विख्यात संस्कृत साहित्यकार महामहोपाध्याय गोपीनाथ कविराज द्वारा रचित एक शोध है जिसके लिये उन्हें सन् 1964 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।[1]

तांत्रिक वाङ्मय में शाक्त दृष्टि  
[[चित्र:|]]
तांत्रिक वाङ्मय में शाक्त दृष्टि
लेखक महामहोपाध्याय गोपीनाथ कविराज
देश भारत
भाषा संस्कृत

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "अकादेमी पुरस्कार". साहित्य अकादमी. मूल से 15 सितंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 सितंबर 2016.