मुख्य मेनू खोलें

तेजपुर विश्वविद्यालय भारत का एक केन्द्रीय विश्वविद्यालय है।[3] विश्वविद्यालय की स्थापना १९९४ में एक संसदीय अधिनियम के तहत की गई थी। इसका परिसर नाप्पम, तेजपुर से पूर्व दिशा में १५ कि॰मी॰ पर, में स्थित है और करीब २४२ एकड़ के क्षेत्र में फिला हुआ है।[4] विश्वविद्यालय में ४ संकायों के अंतर्गत १८ विभाग हैं।

तेजपुर विश्‍वविद्यालय
MainView.png

आदर्श वाक्य:विज्ञानं यज्ञं तनुते
स्थापित२१ जनवरी १९९४[1]
प्रकार:सार्वजनिक
मान्यता/सम्बन्धता:यूजीसी
कुलाधिपति:जानकी वल्लभ पटनायक
कुलपति:प्रो॰ मिहिर काँति चौधरी
विद्यार्थी संख्या:१९६५[2]
डॉक्ट्रेट:३०१[2]
अवस्थिति:नाप्पम,तेजपुर, असम, भारत
परिसर: ग्रामीण
जालपृष्ठ:www.tezu.ernet.in

इसके अधिनियम के अनुसार इस केंद्रीय विश्वविद्यालय का उद्देश्य क्षेत्रीय तथा राष्ट्रीय आकांक्षाओं को पूरा करने के साथ साथ एक विकसित असम गढ़ने हेतु रोजगारपरक तथा बहु-विषयक पाठ्यक्रम चलाने का प्रयास करना होगा। साथ ही विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी के उन नवीनतम क्षेत्रों से संबन्धित पाठ्यक्रम तथा शोध कार्यों को बढ़ावा देना होगा जिनका इस क्षेत्र से विशेष तथा सीधा संबंध हो।

अप्रैल २०१६ में मानव संसाधन विकास मन्त्रालय द्वारा प्रकाशित रपट में तेजपुर विश्वविद्यालय, भारत के शीर्ष ५ उच्च शिक्षा संस्थानों में सम्मिलित है।[5]

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें