त्रिशरा असुरों के राजा रावण का दम्यमालिनी के गर्भ से उत्पन्न दूसरे स्थान का पुत्र था।

उत्पतिसंपादित करें

त्रिशरा की उत्पत्ति असुरराज रावण की दूसरी पत्नी दम्यमालिनी के गर्भ से हुई थी। वह बचपन से ही सभी अस्त्र शस्त्र चलाने में निपूर्ण था और साथ ही सभी मायावी अस्त्रों शस्त्रों का ज्ञाता था।

मृत्युसंपादित करें

लन्का युद्ध में त्रिशरा भी मारा गया था और उसका वध हनुमान रूपी भगवान शंकर के हाथों हुआ था।