थेटा स्कोर्पाए (θ Sco, θ Scorpii), जिसका बायर नामांकन भी यही है, वॄश्चिक तारामंडल का एक तारा है। यह पृथ्वी से दिखने वाले सभी तारों में से ३९वाँ सब से रोशन तारा है। यह पृथ्वी से लगभग २७० प्रकाश वर्ष की दूरी पर है और पृथ्वी से इसका औसत सापेक्ष कांतिमान (यानि चमक का मैग्निट्यूड) १.८६ है।

बिच्छु के रूप वाले वॄश्चिक तारामंडल का चित्रण, जिसमें थेटा स्कोर्पाए 'θ' के चिह्न द्वारा नामांकित तारा है

अन्य भाषाओँ मेंसंपादित करें

मध्य पूर्व की सुमेर सभ्यता थेटा स्कोर्पाए को "सरगस" के नाम से जानती थी। अंग्रेज़ी में "थेटा स्कोर्पाए" के पहले शब्द का उच्चारण "थ़ेटा" (theta) किया जाता है, जिसमें 'थ़' का उच्चारण 'थ' से ज़रा भिन्न है।

विवरणसंपादित करें

थेटा स्कोर्पाए F1 II श्रेणी का एक पीले रंग का दानव तारा है।[1] इसका व्यास (डायामीटर) सूरज के व्यास का २० गुना है और इसका द्रव्यमान सूरज के द्रव्यमान का ३.७ गुना है। इसकी निहित चमक (निरपेक्ष कान्तिमान) सूरज से ९६० गुना है।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Fred Schaaf. "The brightest stars: discovering the universe through the sky's most brilliant stars". John Wiley and Sons, 2008. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780471704102. मूल से 14 अप्रैल 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 अगस्त 2011.