दुंदुभि रामायण के किष्किन्धाकाण्ड में एक भैंसा रूपी असुर है। वह माया नाम की असुर का पुत्र तथा मायावी नामक असुर का छोटा भाई बताया गया है। दोनों भाइयों का वध बालि के हाथों हुआ था।[1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "दुंदुभी का वध". मूल से 2 जून 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2012-04-14.