दुविधा हिन्दी भाषा का एक शब्द है जिसका अर्थ है - "ऐसी मनःस्थिति जिसमें दो या कई बातों में से किसी बात का निश्चय न हो रहा हो।"[1] इस शब्द का हिन्दी साहित्य के साथ सामान्य बोलचाल में भी काफी प्रयोग होता है।

दुविधा
A Dilemma (BM 1945,0109.26).jpg
एक दुविधा में विलियम ईवार्ट ग्लैडस्टोन दिखा कार्टून - यदि वह गार्ड कुत्ते से बचने के लिए चढ़ता है तो वह आदमी के क्रोध का सामना करेगा, और इसके विपरीत

उदाहरणसंपादित करें

मूलसंपादित करें

इस शब्द का मूल संस्कृत का 'द्विविधा' शब्द है।[1]

अन्य अर्थसंपादित करें

यह एकार्थी शब्द है और इसका पूर्वोक्त अर्थ के अतिरिक्त किसी अन्य अर्थ में प्रयोग नहीं होता है।

संबंधित शब्दसंपादित करें

हिंदी मेंसंपादित करें

  • असमंजस

अन्य भारतीय भाषाओं में निकटतम शब्दसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. मानक हिन्दी कोश, तीसरा खण्ड, संपादक- रामचन्द्र वर्मा, हिन्दी साहित्य सम्मेलन प्रयाग, तृतीय संस्करण-२००६, पृष्ठ-९५.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें