डा. देव गुरेरा (डॉक्टर की उपाधि) भारत के उन युवा शोधकर्ताओं में से हैं जिन्होंने अपनी स्नातक स्तर की पढ़ाई भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान से कर उच्च शिक्षा के लिए विदेश जाने का निर्णय लिया। शुरूआती अनुसंधान के विषय चयन एवं उनके सफल प्रकाशन उल्लेखनीय रहे एवं डॉक्ट्रेट की पढ़ाई पूरी की।

शिक्षासंपादित करें

24 मार्च 1993 को भिवानी में जन्मे देव, अमेरिका की ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग से पीएचडी है, बायो- नैनोटेक्नोलॉजी और बायोमीमेटिक्स के लिए नैनोप्रेड लेबोरेटरी में काम किया, जिसे प्रो. भारत भूषण ने निर्देशित किया था। देव मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई में ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी से ही एम-टेक और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रोपड़ से बी-टेक धारक हैं। [1]

प्रकृति आधारित अनुसंधानसंपादित करें

अनुसंधानकर्ता के शोध मुख्यत प्रकृति से प्रेरित हो कर आधुनिक समस्याओं के लिए जैव सूचनात्मक समाधान खोजने पर ही केंद्रित है। जिसमें मच्छरों से प्रेरित हो कर दर्द रहित माइक्रो-नीडल; खरगोश से प्रेरित हो कर स्व-सफाई और कम चिपचिपा, कृत्रिम चमड़ा; कंटीले कैक्टस से प्रेरित हो कर नमी से जल संचयन इत्यादि शामिल हैं। अंतःविषय शोध जिसमें बायोमेटिक्स, इंटरफैसिअल साइंस, वेटेबिलिटी, ड्रॉपलेट / बबल मैकेनिक्स, बायो / नैनोमेट्रिक्स लक्षण वर्णन, और ट्राइबोलॉजी सहित कई क्षेत्रों में काम किया है। [2] [3]

पीर- रीव्यूड की पत्रिकाओं में शोधकर्ता के बारह प्रथम-लेखक शोध पत्र प्रकाशित हुए हैं, जिनमें द फिलॉसॉफ़िकल ट्रांजेक्शंस ऑफ़ द रॉयल सोसाइटी, एक जर्नल ऑफ़ कोलाइड एंड इंटरफ़ेस साइंस और लैंगमुइर शामिल हैं। शोधकर्ता के काम को भारत एवं विदेशी मीडिया ने सुर्खियों में उल्लेखित भी किया। [4] [5]

कुछ उल्लेखनीय प्रकाशनसंपादित करें

  • स्व-सफाई और कम आसंजन के साथ सिंथेटिक चमड़े का निर्माण [6] [7]
  • मच्छरों के दर्द रहित भेदी से सबक [8] [9]

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

  1. अनुसंधान :प्रकाशनों की सूची
  2. Ohio State researchers looking at mosquitoes to develop painless needles यहाँ पढ़ें : NBC, कोलंबस : जून 25, 2018
  3. Collecting clean water from air, inspired by desert life यहाँ पढ़ें : लौरा आर्न्सचिल्ड, ओहियो स्टेट न्यूज़ : दिसंबर 26, 2018
  4. सथेटिक चमड़े के लिए नैनो-कोटिंग की खोज यहाँ पढ़ें : दैनिक जागरण, नई दिल्ली : मई 2, 2018
  5. मच्छरों के काटने से प्रेरित होकर आईआईटी एक्सपर्ट बना रहे पेनलेस इंजेक्शन यहाँ पढ़ें : नवभारत टाइम्स, नई दिल्ली : जुलाई 2, 2018
  6. Fabrication of bioinspired superliquiphobic synthetic leather ... Science Direct : Vol:545 / Aug.2018
  7. Indian scientists discover Nano coating for synthetic leather ... यहाँ पढ़ें : द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया, नई दिल्ली : मई 9, 2018
  8. Fabrication of bioinspired superliquiphobic synthetic leather ... Science Direct : Vol:84 / Aug.2018
  9. IIT experts take cue from mosquitoes for painless jabs यहाँ पढ़ें : द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया, नई दिल्ली : जुलाई 2, 2018