यह हिंदी के प्रसिद्ध कथाकार शैलेश मटियानी द्वारा 1966 में लिखी गई मैले-कुचैले भिखारियों के जीवन की विलक्षण कहानी है।