धर्मराजिक

वो तक्षिला मै स्थित है

धर्मराजिक एक विशाल बौद्ध स्तूप है जो तक्षशिला क्षेत्र में स्थित है। ऐसा विश्वास है कि इसका निर्माण सम्राट अशोक ने तीसरी शताब्दी ईसापूर्व में कराया था। इस स्थल को दो मुख्य भागों में बांटा जा सकता है- स्थल के दक्षिण में स्तूप है तथा उसके उत्तर में मठ। धर्मराजिक का स्तूप तक्षशिला संग्रहालय से लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर है। इसका महत्व इस तथ्य में निहित है कि बुद्ध के शरीर-अवशेषों में से एक को वहां दफनाया गया था। इसका नाम धर्मराजिक, धर्मराज से आता है, यह नाम बुद्ध को दिया गया जो (मार्शल के अनुसार) सच्चे धर्म राज थे । यह भी माना जाता है कि 'धर्मराजिक' शब्द 'धर्मराज' से लिया गया है, जो कि मौर्य सम्राट अशोक द्वारा इस्तेमाल किया गया एक शीर्षक है।

धर्मराजिक स्तूप
Taxila1.jpg
धर्मराजिक स्तूप, तक्षशिला
धर्म संबंधी जानकारी
सम्बद्धताBuddhism
निर्माण वर्ष3rd century BCE
अवस्थिति जानकारी
अवस्थितिPakistan
राज्यSwat
धर्मराजिक की पाकिस्तान के मानचित्र पर अवस्थिति
धर्मराजिक
पाकिस्तान के मानचित्र पर अवस्थिति
भौगोलिक निर्देशांक33°44′N 72°47′E / 33.73°N 72.78°E / 33.73; 72.78निर्देशांक: 33°44′N 72°47′E / 33.73°N 72.78°E / 33.73; 72.78
Statuette excavated at the Dharmarajika stupa

इंडो-यूनानी शासक ज़ोइलोस द्वितीय के सिक्के परिधीय स्तूप के नीचे पाए गए थे। धर्मराजिक स्तूप (15 मीटर ऊंचा और 50 मीटर का व्यास) एक परिपत्र संरचना है। प्रदक्षिणा के लिए एक मार्ग है। मुख्य स्तूप के चारों ओर स्थित इमारतों में तीन विशेष प्रकार की चुनाई की गई है।।

मूल संरचनाओं के चारों ओर छोटे स्तूप और निर्माण के छल्ले का निर्माण करके इन संरचनाओं को कई शताब्दियों में बनाया गया। इंडो-ग्रीक राजा ज़ोइलोस द्वितीय के कई सिक्के ऐसे 1-शताब्दी बीसीई स्तूप की नींव के नीचे पाए गए