धुआँकश, धुआँरा या चिमनी, चिनाई, मिट्टी या धातु से निर्मित एक वास्तुशिल्पिक वायुसंचार संरचना है जो, वाष्पित्र (बॉयलर), भट्ठी, भस्मक, चूल्हों आदि से निकालने वाली गर्म विषाक्त गैसों या धुएं को ऊंचाई पर उत्सर्जित कर उन्हें मानव जीवन वाले क्षेत्रों से अलग करती है। धुआँकश आमतौर पर ऊर्ध्वाधर होते हैं, या जहाँ तक संभव हो इन्हें ऊर्ध्वाधर बनाया जाता है ताकि निकलने वाली गर्म गैसें और धुआँ बिना किसी रुकावट के बाहर निकल सके साथ ही दहन के लिए बाहरी हवा को भीतर खींचा जा सके जिसे धुआँकश प्रभाव के रूप में भी जाना जाता है। धुआँकश, बड़ी औद्योगिक परिशोधिकाओं, जीवाश्म ईंधन दहन सुविधाओं या इमारतों, भाप इंजनों और जलयानों का महत्वपूर्ण भाग हैं।

संसार का सबसे ऊंचा धुआँकश (कजकिस्तान)

एक धुआँकश की ऊंचाई धुआँकश प्रभाव के माध्यम से बाहरी वातावरण में दहन गैसों को स्थानांतरित करने की उसकी क्षमता को प्रभावित करती है। इसके अतिरिक्त, अधिक ऊंचाई पर प्रदूषक गैसों के फैलाव, उनके आसपास के वातावरण पर इन प्रदूषक गैसों के दुष्प्रभाव को कम कर सकता है। एक अपेक्षाकृत बड़े क्षेत्र में प्रदूषकों का फैलाव उनकी सांद्रता को कम कर सकता है और इसके फलस्वरूप प्रदूषकों का स्तर नियामक सीमाओं के भीतर बनाए रखने में मदद मिलती है।

सन्दर्भसंपादित करें


बाहरी कड़ियाँसंपादित करें