धृष्टकेतु, शिशुपाल का पुत्र था और चेदी देश का राजा था। यह स्थान आज के उत्तर प्रदेश में स्थित है। कुरुक्षेत्र के युद्ध में उसने बहुत से योद्धाओं से युद्ध किया और वृहदवाहन का वध किया।

तीनों भाइयों - पुरूजीत, धृष्टकेतु और वृहद्क्षत्र का वध चौदहवें दिन के युद्ध में द्रोणाचार्य के हाथों हुआ। अन्य कैकेय बंधु अपने अन्य भाइयों द्वारा मारे गए जो कौरव सेना की ओर से युद्ध कर रहे थे।

सन्दर्भसंपादित करें

बाहरी सम्पर्कसंपादित करें