मुख्य मेनू खोलें

नगेन्द्रनाथ बसु (6 जुलाई 1866-1938) बांग्ला भाषा के ज्ञानकोशकार थे। वे पुरातत्वविद, इतिहासकार तथा लेखक भी थे। उनके द्वारा सम्पादित बंगला विश्वकोश ही भारतीय भाषाओं से प्रणीत प्रथम आधुनिक विश्वकोश है। यह सन् 1911 में 22 खंडों में प्रकाशित हुआ।

नगेन्द्रनाथ वसु का नामपट्त
नगेन्द्रनाथ वसु का घर

नगेन्द्रनाथ वसु ने ही अनेक हिंदी विद्वानों के सहयोग से बंगला विश्वकोश का हिन्दी रूपान्तर 'हिंदी विश्वकोश' की रचना की जो सन् 1916 से 1932 के मध्य 25 खण्डों में प्रकाशित हुआ।

उनका जन्म कोलकाता में हुआ था। कम आयु में ही उन्होने कविता एवं उपन्यास लिखना शुरू कर दिया था किन्तु शीघ्र वे सम्पादन कार्य में लग गए। 'तपस्विनी' तथा 'भारत' नामक दो मासिक पत्रिकाओं का उन्होने सम्पादन किया।

कृतियाँसंपादित करें

दो विशालकाय विश्वकोश के अतिरिक्त उन्होने निम्नलिखित पुस्तकों की भी रचना की-

  • बंगेर जातीय इतिहास (कई भागों में)
  • कायस्थेर वर्णपरिचय
  • शून्यपुराण
  • आर्कियोलोजिकल सर्वे ऑफ मयूरभंज
  • मॉडर्न बुधिज्म ऐण्ड इट्स फ्फॉलोवर्स इन ओरिसा
  • सोसल हिस्ट्री ऑफ कामरूप

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें