नागरी लिपि से ही देवनागरी, नंदिनागरी आदि लिपियों का विकास हुआ है।

• नागरी लिपि परिषद की स्थापना 1975 ई में की गई ।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें