नारमैण्डी अवतरण (Normandy landings) उस सैन्य ऑपरेशन का नाम है जिसमें द्वितीय विश्वयुद्ध के समय ६ जून १९४४ को मित्र सेना के 1,56,000 सैनिकों ने नाजी कब्जे वाले उत्तरी फ्रांस के नारमैन्डी पर धावा बोला था। दूसरे विश्वयुद्ध के लिए यह एक निर्णायक समय था। इसे 'कयामत का दिन' (डी-डे) भी कहते हैं। इस सैन्य ऑपरेशन को 'ऑपरेशन नैप्चून' का कूटनाम दिया गया था। यह समुद्र के रास्ते किया जाने वाला सबसे बड़ा आक्रमण था और इसी के साथ जर्मनी द्वारा जीते गए फ्रान्स के क्षेत्रों के मुक्ति का आरम्भ हो गया।

मित्र सेनाएं

सन्दर्भसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें