निखिल सचान (जन्म 4 अगस्त 1986 को फतेहपुर, उत्तर प्रदेश में) एक भारतीय लेखक और स्तंभकार हैं। उन्होंने नमक स्वादानुसार [1][2] और जिंदगी आइस पइस , [3][4] नामक लघु कथाओं के दो संग्रह प्रकाशित किए हैं, साथ ही एक उपन्यास यूपी ६५ (युपी ६५)[5][6] जो बेस्टसेलर रहे हैं उनकी शैली। उन्होंने द लल्लांटोप [7] और फ़र्स्टपोस्ट [8] के ई-पत्रिकाओं में भी योगदान दिया है।

निखिल सचान
जन्म 4 अगस्त 1986 (1986-08-04) (आयु 37)
कानपुर, उत्तर प्रदेश, भारत
शिक्षा की जगह भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (BHU) वाराणसी
पेशा लेखक

व्यक्तिगत जीवन

संपादित करें

निखिल ने अपना बचपन कानपुर में बिताया और पंडित दीन दयाल उपाध्याय स्कूल में पढ़ाई की। अपनी स्कूली शिक्षा के बाद उन्होंने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान में अध्ययन किया। स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने दो साल गुड़गांव में काम किया, 2011 से 2013 तक उन्होंने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, कोझीकोड में मैनेजमेंट की पढ़ाई की। स्नातकोत्तर के बाद, वह एक बार फिर कॉर्पोरेट जीवन में शामिल हो गए और गुड़गांव में काम किया। 2016 में उन्होंने मुंबई में एक निवेश प्रबंधन फर्म के साथ काम करना शुरू किया।

लेखन कैरियर

संपादित करें

निखिल की पहली पुस्तक एक लघु कहानी संग्रह थी जिसे 2013 में प्रकाशित नामकुम स्वेदसर कहा गया था। इसने टाइम्स ऑफ इंडिया,[9] ओपन मैगज़ीन [10] सहित कई राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्रों में ध्यान आकर्षित किया और इसे बीबीसी हिंदी की "टॉप 10 बुक्स ऑफ़ द ईयर" में सूचीबद्ध किया गया। [11] उनकी दूसरी पुस्तक, ज़िन्दगी आ पाइस, 2015 में प्रकाशित लघु कहानियों का एक और संग्रह थी, और इसे आलोचकों की प्रशंसा के साथ भी मिला। स्क्रॉल.इन ने पुस्तक को "5 बुक्स टू रीड टू 2015" में सूचीबद्ध किया है [12] इस पुस्तक के साथ, निखिल को आउटलुक, [13] और द क्विंट में भी चित्रित किया गया था।[14] यह पुस्तक आजतक की "2015 की सर्वश्रेष्ठ पुस्तकों की सूची" का भी हिस्सा थी। [15]

निखिल ने ओडिशा लिटरेरी फेस्टिवल में [16] और इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में साहित्य पर बात की है।[17] उन्होंने फ़र्स्टपोस्ट के लिए भी लिखा है।[18] निखिल की तीसरी पुस्तक यूपी 65 नामक एक पूर्ण-लंबाई वाला उपन्यास था, जो 2017 में जारी किया गया था। वह हिंदी फिल्मों के लिए पटकथा लिखने की प्रक्रिया में है।

  1. Nikhila,, Sacāna,; निखिल., सचान,. Namaka svādānusāra : kahānī saṅgraha. OCLC 905537239. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789381394502.सीएस1 रखरखाव: फालतू चिह्न (link)
  2. "Namak Swadanusar". Goodreads. मूल से 14 मई 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-06-25.
  3. Nikhila,, Sacāna,. Zindagī āisa pāisa. OCLC 918935123. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789384419202.सीएस1 रखरखाव: फालतू चिह्न (link)
  4. Poonam, Snigdha. "Five Hindi books you must read this year". Scroll.in (अंग्रेज़ी में). मूल से 20 नवंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-06-25.
  5. "UP 65". www.goodreads.com. अभिगमन तिथि 2019-09-02.
  6. आर्य, गायत्री. "यूपी 65 : उत्तर प्रदेश नहीं, ये निखालिस बनारस है महाराज और यहां बड़ी मौज है!". Satyagrah. मूल से 2 सितंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2019-09-02.
  7. "बाप से पिटा, मां से लात खाई, तुमाई चुम्मी के लिए गुटखा छोड़ दें?". LallanTop - News with most viral and Social Sharing Indian content on the web in Hindi (अंग्रेज़ी में). मूल से 12 सितंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-06-25.
  8. "Nikhil Sachan: Exclusive News Stories by Nikhil Sachan at Firstpost Hindi". Firstpost Hindi (अंग्रेज़ी में). मूल से 15 जनवरी 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-06-25.
  9. "Hindi fiction writes a new story - Times of India". The Times of India. मूल से 8 मार्च 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-05-03.
  10. "The New Heroes of MBA Lit | OPEN Magazine". OPEN Magazine (अंग्रेज़ी में). मूल से 28 अक्तूबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-05-03.
  11. लिए, रंगनाथ सिंह बीबीसी हिंदी डॉटकॉम के. "साल 2013 की हिन्दी किताबें, संपादकों की पसंद". BBC हिंदी. मूल से 4 अगस्त 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-05-03.
  12. Poonam, Snigdha. "Five Hindi books you must read this year". Scroll.in (अंग्रेज़ी में). मूल से 20 नवंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-05-03.
  13. "हिंदी साहित्य के इंजीनियर". outlookhindi.com/. मूल से 4 अगस्त 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-05-03.
  14. "Hindi Literature is Going 'Readers-First' Again". The Quint (अंग्रेज़ी में). मूल से 4 अगस्त 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-05-03.
  15. "साहित्य 2015: झटपट किताबों के फेर में उलझी रही हिंदी". aajtak.intoday.in. मूल से 6 सितंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-05-03.
  16. "Fourth Edition of Odisha Literary Festival Hosted by The New Indian Express". The New Indian Express. मूल से 12 दिसंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-05-03.
  17. "हिंदी लेखन पर सुनिए लल्लन टॉप आइडिया: AAJ TAK: sahitya aaj tak". aajtak.intoday.in. मूल से 17 सितंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-05-03.
  18. "Nikhil Sachan: Exclusive News Stories by Nikhil Sachan at Firstpost Hindi". Firstpost Hindi (अंग्रेज़ी में). मूल से 15 जनवरी 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-05-03.