रसायन विज्ञान में, किसी विलयन की तुल्य सान्द्रता (equivalent concentration) या नॉर्मलता (normality), उस विलयन की मोलर सान्द्रता ci को एक तुल्य गुणक feq से भाग देकर निकाली जाती है।

नॉर्मलता = ci/feq

नॉर्मलता को "N" से दर्शाया जाता है। आजकल तुल्य सान्द्रता का उपयोग कम किया जाने लगा है।

उपयोगसंपादित करें

  • अम्ल-क्षार रसायन में नॉर्मलता का उपयोग किसी विलयन में उपस्थित हाइड्रोनियम आयनों (H3O+) या हाइड्रॉक्साइड आयनों (OH) की सान्द्रता को अभिव्यक्त करने के लिए किया जाता है ।
  • रेडॉक्स अभिक्रियाओं में
  • अवक्षेपण अभिक्रियाओं में

उदाहरणसंपादित करें

अम्ल-क्षार टाइट्रेशन में नॉर्मलता का उपयोग किया जा सकता है। उदाहरण के लिए सल्फ्युरिक अम्ल (H2SO4) द्विप्रोटोनी अम्ल (diprotic acid) है। चुंकि H2SO4 का केवल 0.5 मोल ही 1 मोल OH को उदासीन करने के लिए आवश्यक है, इसलिए तुल्य गुणक यह होगा:

feq(H2SO4) = 0.5

यदि सल्फ्युरिक अम्ल विलयन की सान्द्रता c(H2SO4) = 1 mol/L हो, तो नॉर्मलता 2 N होगी। इसे "2 नॉर्मल" विलयन भी कह सकते हैं।

इसी प्रकार, यदि किसी विलयन का c(H3PO4) = 1 mol/L हो, तो नॉर्मलता 3 N होगी क्योंकि फॉस्फोरिक अम्ल में 3 अम्लीय H आयन होते हैं।

आलोचनासंपादित करें

विलयन की सान्द्रता मापने के लिए नॉर्मलता का उपयोग करने से एक संदेह बना रहता है। क्योंकि इसके लिए एक 'तुल्य गुणक' की आवश्यकता पड़ती है, जो तुल्यांक की परिभाषा पर निर्भर करती है। दूसरे शब्दों में, अलग-अलग अभिक्रियाओं के लिए एक ही विलयन की नॉर्मलता अलग-अलग होगी।

सन्दर्भसंपादित करें