नोरा इल्ली

स्विट्जरलैंड की इस्लाम प्रचारिका

नोरा इल्ली (३ अप्रैल १९८४ - २३ मार्च २०२०) इस्लाम प्रचारिका और इस्लाम धर्म में परिवर्तित होनेबाली एक स्विस नागरिक थी। [2] वह इस्लामिक सेंट्रल काउंसिल ऑफ स्विट्जरलैंड (आईसीसीएस) की भुतपूर्व अध्यक्ष है। उसने कई टीवी टॉक शो में हिस्से लिया और अपने बौद्धिक और राजनीतिक विचारों के साथ मंच गर्म रखी।

नोरा इल्ली
Nora Elli an Islamic preacher.jpg
नोरा इल्ली
धर्म इस्लाम
व्यक्तिगत विशिष्ठियाँ
जन्म नोरा गोग़ेल
०३ अप्रैल १९८४
उस्टर, स्विट्जरलैंड
निधन 23 मार्च 2020(2020-03-23) (उम्र 35)
ब्रेमग़ार्टन बई बर्न, स्विट्जरलैंड[1]
जीवनसाथी क़सीम इल्ली (वि॰ 2003)

प्रारंभिक जीवनसंपादित करें

उनका जन्म नोरा गोगेल के रूप में 3 अप्रैल 1984 में ज्यूरिख के कैंटन उस्टर में हुआ था।[1] उनके पिता जर्मन मूल के एक प्रसिद्ध स्विस मनोचिकित्सक थे और उनकी माँ एक स्विस सामाजिक कार्यकर्ता थीं। वर्षों बाद उनका तलाक हो गया। इली ने अपने अनुरोध पर कैथोलिक बपतिस्मा लिया था।[3] एक किशोरी के रूप में, उसने व्यक्तिगत स्वतंत्रता और स्थापना विरोधी विचारों को बढ़ावा दिया।

इस्लाम ग्रहण और जिम्मेदारीसंपादित करें

18 साल की उम्र में, इली ने इस्लाम धर्म अपना लिया। इल्ली ने दुबई की यात्रा किया, और वहाँ अज़ान सुनने के बाद इस्लाम में प्रवेशित होने के लिए सिद्धांत लि। स्विटजरलैंड लौटने के बाद उसने इस्लाम धर्म अपना लिया । दो हफ्ते बाद, उसका पति, कासिम इल्ली (उस समय वह केवल उसका प्रेमी था) भी एक इस्लाम धर्म में प्रवेश किया। दोनों सक्रिय सदस्य थे इस्लामिक सेंट्रल काउंसिल ऑफ स्विट्जरलैंड (ICCS) का।[4] २० साल की उम्र तक, नोरा इल्ली ने सार्वजनिक रूप से नकाब (चेहरा घूंघट) पहन लिया था। उसने अपने गृह नगर में अपनी शिक्षा तब तक जारी रखी जब तक कि उसे ज़्यूरिख विश्वविद्यालय से धर्मशास्त्र में पीएचडी की उपाधि नहीं मिली. इली ने इस्लामिक सेंट्रल काउंसिल ऑफ स्विट्जरलैंड (ICCS) में महिला मामलों के विभाग की अध्यक्षता की। इस्लाम में परिवर्तित होने के बाद, वह एक इस्लामी उपदेशक बन गई। नवंबर 2016 में ऐनी विल के टॉक शो पर एक टीवी साक्षात्कार में, इली ने कहा, "मुसलमानों के खिलाफ मेरे मन में पूर्वाग्रह था; मैं यह भी सोचती थी कि मुस्लिम महिलाएं सभी पर अत्याचार होती हैं। हालांकि मैंने पाया कि इस्लाम महिलाओं को मोती मानता है।" उन्होंने कहा कि वह इस नतीजे पर पहुंचीं कि कुछ गलत मुद्दे और मान्यताएं हैं जो विभिन्न संस्कृतियों से उत्पन्न होती हैं जिन्हें इस्लाम पे जिम्मेदार ठहराया गया है, लेकिन वास्तव में इसका इससे कोई लेना-देना नहीं है। इली ने पुष्टि की कि इस्लाम के कारण, उसने एक महिला के रूप में आत्म-पुष्टि करना शुरू कर दिया, और कहा कि एक मुस्लिम महिला होने के नाते, उसे कभी भी एक वस्तु के रूप में नहीं माना जाता है।[3]

उसने इस तथ्य पर जोर दिया कि इससे पहले कि वह चेहरा घूंघट पहनना शुरू करती, पुरुष उसे एक वस्तु के रूप में मानते थे और वे केवल उसके शरीर की ओर आकर्षित होते थे। इली को कई टीवी शो द्वारा होस्ट किया गया था जहां उन्होंने जर्मन और स्विस मीडिया दोनों के लिए कई बौद्धिक और राजनीतिक विचारों को आवाज दी थी। नवंबर 2016 में, ऐनी विल के सबसे प्रसिद्ध टीवी शो में इली की उपस्थिति ने इस बात को लेकर बहुत विवाद और हंगामा किया कि क्या टीवी शो में कट्टरपंथी विचारों का प्रतिनिधित्व किया जाना चाहिए। इली के कुछ उद्धरण साक्षात्कार के दौरान दिखाए गए थे और उन्हें आतंकवादी मिलिशिया के कट्टरपंथी विचारों के प्रचार के रूप में व्याख्यायित किया गया था। ऐनी विल के शो ने इस बात को लेकर बहुत विवाद और हंगामा खड़ा कर दिया कि क्या टीवी शो में कट्टरपंथी विचारों का प्रतिनिधित्व किया जाना चाहिए। इली के कुछ उद्धरण साक्षात्कार के दौरान दिखाए गए थे और उन्हें आतंकवादी मिलिशिया के कट्टरपंथी विचारों के प्रचार के रूप में व्याख्यायित किया गया था। ऐनी विल के शो ने इस बात को लेकर बहुत विवाद और हंगामा खड़ा कर दिया कि क्या टीवी शो में कट्टरपंथी विचारों का प्रतिनिधित्व किया जाना चाहिए। इली के कुछ उद्धरण साक्षात्कार के दौरान दिखाए गए थे और उन्हें आतंकवादी मिलिशिया के कट्टरपंथी विचारों के प्रचार के रूप में व्याख्यायित किया गया था।[5] इस्लामिक स्टेट। उस चर्चा के परिणामस्वरूप उसके खिलाफ कई मुकदमे दायर किए गए, लेकिन हैम्बर्ग लोक अभियोजक कार्यालय ने फरवरी, 2017 में सभी प्रारंभिक जांच को निलंबित कर दिया।[4]

टीवी पर और स्विट्जरलैंड के अंदर और बाहर सार्वजनिक कार्यक्रमों में चेहरे पर घूंघट के साथ दिखाई देने के साथ इली ने उस कार्यक्रमों बात रखती थी। अपने काले चेहरे के कारण उसे प्रतिदिन प्रताड़ित और अपमानित किया जाती थी। इल्ली ने बहुविवाह की पैरोकार, कई पत्नियां रखने की प्रथा को समर्थन किया लेकिन उन्होंने कई पति होने के कारण बहुपतित्व को अस्वीकार कर दिया ।[2]

दांपत्य जीवनसंपादित करें

उनकी शादी कंप्यूटर वैज्ञानिक कासिम इल्ली से हुई थी, जिन्होंने स्विट्जरलैंड की इस्लामिक सेंट्रल काउंसिल के लिए भी काम किया था। उनके छह बच्चे थे।[4]

मौतसंपादित करें

लंबे समय तक स्तन कैंसर से पीड़ित रहने के बाद नोरा इली का 23 मार्च 2020 को 35 वर्ष की आयु में बर्न के एक अस्पताल में निधन हो गया ।[1] [6]

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

  1. "Berühmteste Burkaträgerin der Schweiz, Nora Illi, im Alter von 35 Jahren gestorben" (जर्मन में). सन्दर्भ त्रुटि: <ref> अमान्य टैग है; ":0" नाम कई बार विभिन्न सामग्रियों में परिभाषित हो चुका है
  2. "Controversial Swiss convert to Islam dies aged 35".
  3. "Nora Illi - Late rights, freedom activist in Europe". www.aa.com.tr. अभिगमन तिथि 2022-02-02.
  4. "Nora Illi - Late rights, freedom activist in Europe". archive.vn. 2022-02-02. मूल से पुरालेखित 2 फ़रवरी 2022. अभिगमन तिथि 2022-02-02.सीएस1 रखरखाव: BOT: original-url status unknown (link)
  5. "A woman 'calling for jihad' was invited on a German talk show". The Independent (अंग्रेज़ी में). 2016-11-08. अभिगमन तिथि 2022-02-02.
  6. Eddy, Melissa (16 April 2020). "Nora Illi, Swiss Muslim Convert Who Sparked Controversy, Dies at 35". The New York Times.