क्रांतिकारी पंडित तेजसिंह तिवारी (जन्म 1800 सदी) भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में असंख्य लोगों ने अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दिया था, परंतु उन्हें लोग याद नहीं करते हैं। और गुमनामी की यादों में उनके अतीत समाए हुए हैं हिरनगौ (हिरनगाँव) से 12 किलोमीटर दूरी पर फ्रेंच, आर्मी चीफ डी. वायन ने सन नवंबर 1794 में फिरोजाबाद में आयुध फैक्ट्री की स्थापना की, श्री थॉमस ट्रविंग ने भी अपनी पुस्तक 'Travels in India ' में इस आयुध फैक्ट्री का उल्लेख किया है| 30 सितंबर 1803 को फिरोजाबाद नगर अंग्रेजों के अधीन हो गया और अंग्रेजी सरकार की हुकूमत फिरोजाबाद नगर पर चलने लगी, नागरी प्रचारिणी सभा (बनारस उत्तर प्रदेश) द्वारा लिखित  पुस्तक खोज में उपलब्ध हस्तलिखित हिंदी ग्रंथों का कोधबम मैं हिरनगौ स्थान सन 1817 का उल्लेख किया गया है इसके बाद लेखक क्षेमचंद सुमन द्वारा अपनी हस्त्तलिखित पुस्तक दिवंगत हिंदी सेवी भाग 2 मैं ग्राम हिरनगौ मैं सन 1822 में एक अन्य परिवार के बसने का उल्लेख किया है इससे प्रतीत होता है कि यह ग्राम ततसमय अस्तित्व में था 1800 सदी में जन्मे हिरनगांव निवासी क्रांतिकारी पंडित तेजसिंह तिवारी

(क्रांतिकारी पंडित तेजसिंह तिवारी)
जन्म 1800 सदी
हिरनगाँव फिरोजाबाद
मृत्यु अज्ञात
हिरनगाँव फिरोजाबाद उत्तर प्रदेश
राष्ट्रीयता भारतीय
जातीयता ब्राह्मण
प्रसिद्धि कारण क्रांतिकारी हिंदुस्तानी सिपाही
उत्तराधिकारी खुशालीराम तिवारी, उमरावसिंह तिवारी, रामलाल , देवीराम तिवारी
बच्चे खुशालीराम तिवारी, उमरावसिंह तिवारी, रामलाल , देवीराम तिवारी


क्रांतिकारी पंडित तेजसिंह तिवारी निवासी ग्राम हिरनगौ (हिरनगांव) जिला आगरा (वर्तमान जिला फिरोजाबाद)  उत्तर प्रदेश का जन्म इनकी कुलदेवी माता बेलोन (नरोरा) के आशीर्वाद से  हुआ था इनके माता पिता को  अपनी कुलदेवी पर अटूट विश्वास था मातारानी के आशीर्वाद से जन्म से ही इनका शरीर हष्ट पुष्ट एवं बलवान था बाल्यावस्था में इनके चेहरे पर इतना तेज एवं शरीर में शेर की भाति बल था इनके माता-पिता द्वारा इनके तेज एवं बल को देख कर इनका नाम पंडित तेजसिंह तिवारी रख दिया इनके दो छोटे भाई थे  छोटे भाई का नाम फतेह सिंह तिवारी था तीसरे भाई का नाम अज्ञात है तीसरे भाई की शादी नहीं हुई थी बचपन से ही इनको अपने भाइयों से बहुत प्रेम था भाई मिलजुल कर कार्य करते थे और जो कुछ कार्य करने से धन मिलता था उससे अपना जीवन यापन परिवार चलाने के लिए करते थे बाल्यावस्था से ही हिंदुस्तान के प्रति देश प्रेम था, हिंदुस्तानियों के बच्चों को पढ़ने लिखने नहीं दिया जाता था और उन से काम कराया जाता था गौरो द्वारा अपने बच्चों को  अच्छे स्कूल में  पढ़ाया जाता था एवं अच्छी शिक्षा दिलाई जाती थी  पंडित तेजसिंह तिवारी को यह देखकर बहुत ही बुरा लगता था  यह हिंदुस्तानी बच्चों को पढ़ाने का काम करने लगे


कुछ समय बाद इनकी अध्यापक की नौकरी लग गई एक दिन जब यह सुबह उठकर हाथ मुंह धो रहे थे उसी समय इनके घर पर एक अंग्रेज सिपाही आया और घर के बाहर से इनका नाम पुकारने लगा तभी अंदर से पंडित तेजसिंह तिवारी निकल कर बाहर आए और उस अंग्रेज सिपाही से पूछने लगे कि क्या काम है  अंग्रेज सिपाही ने इनका नाम पूछा और इनसे कहने लगा कि आपको साहब ने बुलाया है यह कुछ समय बाद अंग्रेज अफसर के घर पर पहुंचे और उनसे पूछने लगे कि क्या काम है साहब तभी अंग्रेज अफसर ने इनसे अँग्रेजी मैं कहां, कि (Pandit ji, if you work to teach children, then teach my children also at home ) पंडित जी आप बच्चों को पढ़ाने का काम करते हैं तो मेरे बच्चों को भी घर पर  पढ़ा दिया करो,  पंडित तेजसिंह तिवारी अंग्रेज अफसर द्वारा बोली गई अंग्रेजी को समझ चुके थे और इन्होंने अंग्रेज अफसर को अंग्रेजी में ही उत्तर दिया और कहा कि ( I do not teach children at anyone's home but only teach children in school )मैं किसी के घर पर  बच्चों को नहीं पढ़ाता सिर्फ पाठशाला में बच्चों को शिक्षा देता हूं,  यह सुनकर अंग्रेज अफसर गुस्से से तिलमिला गया ओर इनसे बोला कि पंडित जी आप अच्छा नहीं कर रहे हैं आपको बच्चें पढ़ाने के लिए जितने पैसे चाहिए उतने पैसे मैं दूंगा पंडित तेज सिंह तिवारी द्वारा अंग्रेज अफसर से कहा गया कि मैं पैसे का लालची नहीं हूं किसी अन्य अध्यापक से अपने बच्चों को पड़वा लीजिए यह कहकर पंडित तेजसिंह तिवारी अपने घर ग्राम हिरनगो में वापस आ गए और यह घटना अपने परिवार के सदस्यों को बताई,


समय के साथ साथ इनका विवाह संपन्न हुआ इसके उपरांत इनको चार पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई इनके पुत्रों का नाम  खुशालीराम तिवारी, उमरावसिंह तिवारी, रामलाल तिवारी, देवीराम तिवारी था प्रथम पुत्र रत्न प्राप्त होते ही इनके घर परिवार में खुशहाली आ गई सभी लोग बड़े प्रसन्न थे अपने परिवार की खुशहाली को देखते हुए इन्होंने अपने बड़े पुत्र का नाम पंडित खुशालीराम तिवारी रख दिया समय के साथ-साथ इनके चारों पुत्र बड़े होते गए और अपने सभी पुत्रों का विवाह समय को देखते हुए संपन्न कर दिया


पंडित तेजसिंह तिवारी हमेशा अपने बड़े पुत्र पंडित खुशालीराम तिवारी को बताया करते थे कि माता कुलदेवी दरअसल कुल या वंश की रक्षक देवी होती है। ये घर परिवार या वंश परम्परा की प्रथम पूज्य तथा मूल अधिकारी देवी होती है अत: इनकी उपासना या महत्त्व दिए बगैर सारी पूजा एवं अन्य कार्य व्यर्थ हो सकते है। माता बेलोन कुलदेवी का आशीर्वाद प्राप्त कर क्रांतिकारी पंडित तेजसिंह तिवारी ने 1857 की क्रांति की जंग में भाग लिया 1857 की क्रान्ति की शुरूआत '10 मई 1857' की संध्या को मेरठ मे हुई थी और इसको समस्त  हिंदुस्तानी 10 मई को प्रत्येक वर्ष ”क्रान्ति दिवस“ के रूप में मनाते हैं, फिरोजाबाद नगर के संबंध में 13 मार्च 1918 को उत्तर पश्चिम प्रदेश के वेदोंशिक विभाग की एक फाइल जो कि सचिव सचिवालय उत्तर प्रदेश में है जिसमें 1857 क्रांति मैं आगरा क्षेत्र के अंतर्गत  घटित घटनाओं का एक छोटा सा विवरण दिया गया है जिसमें कहा गया है कि फिरोजाबाद परगना में स्थित कुछ क्षेत्रों के निवासी हिंसात्मक कार्य में सक्रिय नहीं है फिर भी वह ब्रिटिश शक्ति की आज्ञा की अवहेलना कर रहे हैं इस वृत्तांत  से ऐसा प्रतीत हो रहा है कि फिरोजाबाद नगर में 1857 की क्रांति के बाद भी हिंदुस्तानियों के दिलों में क्रांति की भावना बनी रही


1 अप्रैल 1862 को फिरोजाबाद नगर मैं टूंडला से शिकोहाबाद के लिए रेलगाड़ी चलना प्रारंभ हुई इसके उपरांत मार्च 1863 में टूंडला से अलीगढ़ रेलगाड़ी चलना प्रारंभ हुई वर्ष 1868 में फिरोजाबाद नगर में अंग्रेजी सरकार ने नगर पालिका की स्थापना कर दी उस समय नगरपालिका के अंतर्गत पुलिस कार्य करती थी ज्वाइंट मजिस्ट्रेट इसके अध्यक्ष हुआ करते थे

पंडित तेज सिंह तिवारी का देहांत ग्राम हिरनगौ में हो गया इनकी मृत्यु के बाद इनके पुत्रों को बहुत दुख हुआ

संदर्भसंपादित करें

1- https://www.gkexams.com/ask/55755-list-Of-Bharat-Krantikari

2- https://www.geni.com/people/Krantikari-Pandit-Tejsingh-Tiwari/6000000128746227384

3-पाठशाला हिरनगांव नाम पंजिका रजिस्टर (सन 1900) के अभिलेख[मृत कड़ियाँ]

4-माता (बेलोन मंदिर) के पंडा के अभिलेख सोरो के पंडा के अभिलेख[मृत कड़ियाँ]

5-गैजेटियर्स 1905[मृत कड़ियाँ]

6-'Travels in India '[मृत कड़ियाँ]

7-https://twitter.com/ravitiwariagra/status/1260993054481084416?s=08

8-https://twitter.com/ravitiwariagra/status/1260993054481084416?s=19/ क्राइम मेल पत्रिका/ क्रांतिकारी पंडित तेजसिंह तिवारी



]