पक्षाभ बादल सबसे अधिक ऊँचाई पर लघु हिमकणों द्वारा निर्मित उच्च मेघ या बादल हैं जो प्रायः छितराये रूप में रेशम की तरह दिखते हैं। इनका निर्माण छोटे-छोटे हिमकणों द्वारा होता हैं इसलिए इनसे होकर जब सूर्य की किरणें गुजरती हैं तो रंग श्वेत हो जाता हैं, परन्तु शाम के समय यह विविध रंगों में दृष्टिगोचर होते हैं। जब ये बादल असंगठित तथा छितराएं रूप में होते हैं तो साफ मौसम की सूचना होती हैं परन्तु जब ये संगठित होकर विस्तृत क्षेत्र में फैल जाते हैं तो खराब मौसम के आसार हो जाते हैं।

A photograph showing many types of cirrus clouds all jumbled together floating above a plain
विभिन्न प्रकार के पक्षाभ मेघों से घिरा आकाश

इनकी कम सघनता के कारण सूर्य अथवा चंद्रमा का प्रकाश निर्बाध रूप से पृथ्वी तक पहुंचता है।[1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. पक्षाभ बादल Archived 29 नवम्बर 2014 at the वेबैक मशीन., इण्डिया वाटेर पोर्टल पर